बेंगलुरू, एएनआइ। बोइंग ने एफ/ए-18 सुपर हॉरनेट की 'मेक इन इंडिया' की योजना के तहत हिन्दुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड (एचएएल) करार किया है। जिसके अंतर्गत हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने बेंगलुरु में निर्मित बोइंग एफ /ए -18 सुपर हॉर्नेट के लिए 150 वीं बंदूक बे दरवाजा दिया है। बोइंग ने 2007 में सुपर हॉर्नेट के लिए गन बे डोर के निर्माण का ठेका एचएएल को दिया था।

बता दें, साल 2018 में देश में ही FA-18 सुपर हॉर्नेट लड़ाकू विमान के निर्माण के लिए बोइंग इंडिया ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) और महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स (एमडीएस) के साथ साझेदारी की घोषणा की थी। बोइंग इंडिया, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) और महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स (एमडीएस) ने देश में ही एफ/ए -18 सुपर हॉरनेट लड़ाकू विमान के विनिर्माण के लिए हाथ मिलाया है। बोइंग इंडिया के अध्यक्ष प्रत्युष कुमार , एचएएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक टी . सुवर्ण राजू और एमडीएस के चेयरमैन एस . पी . शुक्ला ने भारत में निर्मित लड़ाकू विमान के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप