कोट्टयम, प्रेट्र। केरल में शनिवार को हुई भारी बारिश और भूस्खलन की घटनाओं में छह लोगों के मारे जाने और दर्जन भर लोगों के लापता होने की खबर है। बारिश से प्रदेश के मध्य और दक्षिणी भागों में आई बाढ़ से पैदा स्थितियों से निपटने के लिए केरल सरकार की मांग पर सुरक्षा बल प्रभावित इलाकों में पहुंच गए हैं। मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने मौजूदा स्थिति को गंभीर बताया है। मौसम विभाग की ताजा रिपोर्ट के आधार पर संभावना भी जताई है कि स्थिति और नहीं बिगड़ेगी।

अति वर्षा से पैदा हालात में तमाम लोगों के घायल होने की जानकारी मिली है। निचले इलाकों में रहने वाले सैकड़ों लोगों को घर छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा है। राज्य के दक्षिणी इलाके में कई जिलों में बने बांध पूरे भरने के करीब हैं। निर्धारित क्षमता से ज्यादा पानी होने पर उनके द्वार खोलने पड़ सकते हैं। इससे स्थिति और खराब होने की आशंका है।

कोट्टयम, इडुक्की और पाथनमथिट्टा जिलों की स्थिति सबसे ज्यादा खराब

राज्य सरकार ने बड़े इलाके में बाढ़ की आशंका को भांपते हुए सुरक्षा बलों की मदद मांगी है। राज्य में ऐसे कई पहाड़ी इलाके हैं जहां पर बाढ़ आने पर उनका जमीनी संपर्क बाकी दुनिया से कट जाएगा। कोट्टयम, इडुक्की और पाथनमथिट्टा जिलों की स्थिति सबसे ज्यादा खराब है। इन जिलों में हालात करीब वैसे ही हैं जैसे कि 2018 में आई बाढ़ के समय थे।

तीनों सेनाएं ग्रामीण इलाकों के लिए हुईं रवाना

पुराने अनुभवों के आधार पर प्रशासन ने बचाव के इंतजाम किए हैं और फिलहाल स्थिति को नियंत्रण में बताया है। प्रशासन के दावे के विपरीत कई इलाकों में बचाव दल और राहत सामग्री न पहुंचने की खबर है। अधिकारियों के अनुसार सेना, वायुसेना और नौसेना के बचाव दल कोट्टयम और इडुक्की के ग्रामीण इलाकों के लिए रवाना हो चुके हैं। जल्द ही प्रभावित लोगों को राहत मिल जाएगी।