नई दिल्ली, एजेंसियां। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ मास्क सबसे सरल और सबसे शक्तिशाली हथियार है। वह अपने मंत्रालय में फ्रंटलाइन वर्कर्स को मास्क बांट रहे थे।

हर्षवर्धन ने कहा- लोगों की जिंदगी बचाने के लिए मास्क पहनने को जन आंदोलन बनाना जरूरी

हर्षवर्धन ने कहा कि यह मास्क वितरण सांकेतिक है, लेकिन विभिन्न उद्योगों, कारोबारी घरानों, संगठनों और नेताओं द्वारा महामारी से अपने लोगों और कर्मचारियों की जिंदगी को सुरक्षित बनाने के लिए इसे जन आंदोलन बनाया जा सकता है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि कोई भी बिना मास्क के ना रहे।

पिछले साल सरकार ने सक्रिय मामलों को न्यूनतम स्तर तक लाने के लिए दिन रात काम किया

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकार ने पिछले साल महामारी को रोकने के लिए दिन रात काम किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हम सक्रिय मामलों को न्यूनतम स्तर तक लाने में सफल रहे थे। परंतु, इस साल के शुरू में वैक्सीन के आने के बाद लोग लापरवाह हो गए।

हमारी लापरवाही के चलते ही दूसरी लहर के रूप में सामने आई महामारी

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस अपना रूप बदलता रहा और लोग लापरवाह हो गए। लोगों ने कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करना छोड़ दिया, जिसके परिणामस्वरूप देश को भयावह दूसरी लहर का सामना करना पड़ा।

केंद्रीय मंत्री ने कहा- अनलाक के बाद पाबंदियां खत्म, लेकिन हमें लापरवाह नहीं होना है

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक बार फिर देश के विभिन्न हिस्सों में अनलाक की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ज्यादातर हिस्सों में अधिकतर पाबंदियां खत्म कर दी गई हैं, लेकिन हमें लापरवाह नहीं होना है। जरा सी लापरवाही से आगे संक्रमण बढ़ सकता है।

Edited By: Bhupendra Singh