नई दिल्ली। हुर्रियत कांफ्रेंस के नरमपंथी धड़े के नेता मीरवाइज उमर फारूक ने शुक्रवार को कहा कि कट्टरपंथी अलगाववादी समूहों को अपने दृष्टिकोण में बदलाव लाना चाहिए जिससे कश्मीर समस्या का हल निकल सके। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं होने पर इस समस्या पर यथा स्थिति बनी रहेगी और कोई फायदा नहीं मिलेगा।

मीरवाइज अपने अन्य सहयोगियों के साथ शनिवार को पाकिस्तान के दौरे पर जा रहे हैं। हुर्रियत कांफ्रेंस के चरमपंथी धड़े के नेता सैयद अली शाह गिलानी द्वारा उनके इस दौरे का विरोध किए जाने के संबंध में पूछे गए सवाल के जवाब में मीरवाइज ने बिना उनका नाम लिए हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। उन्होंने कहा कि जब हम नई दिल्ली पहुंच कर बातचीत करते है तो हमें धोखेबाज की संज्ञा दी जाती है और जब हम पाकिस्तान जा रहे तो हमे व्यापारी की संज्ञा दी जा रही हैं।

मीरवाइज ने कहा कि इसे कट्टरपंथी राजनीति करार देते हुए कहा कि इससे किसी और को नहीं केवल उन्हें ही लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि हमें क्या करना चाहिए? अगर उनके पास कोई समाधान है तो वे आगे आकर हमे दें। उन्होंने कहा कि कश्मीर समस्या का हल रातोंरात नहीं निकाला जा सकता है और पाकिस्तान की उनकी यात्रा इसी कड़ी में एक शुरूआत भर हैं। उन्होंने कहा कि इस समस्या का हल ढूढ़ने के लिए पाकिस्तान की उनकी यात्रा सही दिशा में एक छोटा सा प्रयास मात्र हैं।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान की अपनी इस यात्रा के दौरान मीरवाइज वहां राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी, प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ व विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार सहित अन्य पाक नेताओं के साथ मुलाकात कर कश्मीर समस्या पर बातचीत करेंगे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस