नई दिल्ली, एजेंसी।  Joseph Antoine Ferdinand Plateau बेल्जियम के भौतिक विज्ञानी जोसेफ एंटोनी फर्डिनेंड का आज 218 वां जन्मदिन हैं। गुगल डूडल के माध्याम से उन्हें याद कर रहा है। जोसेफ एंटोनी ने उस तकनीक की खोज की थी जिसका इस्तेमाल फिल्मों में एनीमेशन लाने के लिए किया जाता था। इस तकनीक का नाम है फेनाकिसटिस्कोप। यह एक प्रकार का एनीमेशन डिवाइस है जिसका प्रयोग सबसे पहले मोशन पिक्चर के लिए किया गया था। मनोरंजन जगत में आज जो भी बेहतरीन फिल्मों का निर्माण हो रहा है उसमें मूविंग मीडिया एंटरटेनमेंट में सबसे पहले इस तकनीक का इस्तेमाल किया गया था।

जोसेफ एंटोनी द्वारा विजुअल पर किए गए रिसर्च ने उन्हें फेनाकिस्टिस्कोप नामक एक उपकरण को बनाने के लिए प्रेरित किया जिसके कारण सिनेमा का जन्म हुआ। फेनाकिस्टिस्कोप ने एक मूविंग इमेज का भ्रम पैदा किया जो मोशन पिक्चर के जन्म और विकास के लिए जरूरी था।

जोसेफ एंटोनी की रिसर्च इस बात पर केंद्रित थी कि रेटिना पर चित्र कैसे बनते हैं, उनकी सही अवधि, रंग और तीव्रता को देखते हुए। उन्होंने 1832 में इन निष्कर्षों के आधार पर एक स्ट्रोबोस्कोपिक उपकरण बनाया जिसमें दो डिस्क विपरीत दिशाओं में घूमती थीं। पहली डिस्क में एक सर्कल में छोटी विंडो थीं, और दूसरी डिस्क में एक सीरिज में एक डांसर की तस्वीरें थीं।

कानून की पढ़ाई के बाद फिजियोलॉजिकल ऑप्टिक्स का किया अध्ययन

जोसेफ एंटोनी ने कानून की पढ़ाई की लेकिन बाद में फिजियोलॉजिकल ऑप्टिक्स का अध्ययन किया, विशेष रूप से मानव रेटिना पर प्रकाश और रंग के प्रभाव पर जोर दिया, जिसने उन्हें 19 वीं शताब्दी के सबसे प्रसिद्ध वैज्ञानिकों में से एक बना दिया।

जोसेफ एंटोनी के पिता एक कलाकार थे

जोसेफ एंटोनी के पिता एक कलाकार थे, जो फूलों की पेंटिंग बनाने में माहिर थे। शुरुआत में पठार ने कानून की पढ़ाई की लेकिन बाद में फिजियोलॉजिकल ऑप्टिक्स का अध्ययन किया, विशेष रूप से मानव रेटिना पर प्रकाश और रंग के प्रभाव पर जोर दिया, जिसने उन्हें 19 वीं शताब्दी के सबसे प्रसिद्ध वैज्ञानिकों में से एक बना दिया।

Edited By: Sanjeev Tiwari