जयपुर (ब्यूरो)। पाकिस्तान सीमा के पास राजस्थान के जैसलमेर जिले की पोखरण फायरिंग रेंज में भारतीय वायुसेना के अब तक के सबसे बड़े युद्धाभ्यास 'गगन शक्ति 2018' में लड़ाकू विमानों के अचूक निशाने और धमाके देश की सैन्य ताकत का अहसास करा रहे हैं।

एक सप्ताह से जारी युद्धाभ्यास 22 अप्रैल तक होगा। इस दौरान जवानों ने दुश्मन की धरती पर जाकर तबाही मचाने का अभ्यास किया। सैन्य प्रवक्ता ने बताया कि दिन-रात चल रहे युद्धाभ्यास में खतरनाक दस्ते को हवा से दुश्मन के इलाके में उतारने व एयर टू एयर काउंटर अटैक में महारत हासिल करने पर जोर दिया जा रहा है। दो दिन से दुश्मन की धरती पर जाकर कब्जा करने की रणनीति के तहत वायु सैनिक युद्धाभ्यास में जुटे हैं।

1100 विमान ले रहे हिस्सा

सुखोई-30, एमकेआई, मिग-21, मिग-29, मिग-27, जगुआर, मिराज, सी-17 ग्लोब मास्टर, सी-130 जे, एमआई-35, एमआई-17वी 5, एमआई-17, एएलएच ध्रुव सहित 1100 विमान भी युद्धाभ्यास में हिस्सा ले रहे हैं।

By Nancy Bajpai