नई दिल्ली, एएनआइ। हमारे पास बहुत पुख्ता खुफिया जानकारी थी। मैं निश्चित गिनती तो नहीं बता सकता, लेकिन यह कहा जा सकता है कि बालाकोट के ट्रेनिंग कैंपों में 500 से 600 आतंकी थे। रिटायर्ड एयर मार्शल सी. हरि कुमार ने गुरुवार को यह बात कही। कुमार 26 फरवरी, 2019 को की गई एयर स्ट्राइक के दौरान वायुसेना की पश्चिमी कमान संभाल रहे थे। इस दिन भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर बालाकोट के आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया था। इस अभियान में 16 लड़ाकू विमान शामिल थे।

बालाकोट के आतंकी ठिकानों को लेकर रिटायर्ड एयर मार्शल ने बताया कि सेना के पास इन ठिकानों की पुख्ता जानकारी थी। एयर स्ट्राइक के असर को इससे भी समझा जा सकता है कि सालभर से कहीं भी कोई बड़ा आतंकी हमला नहीं हुआ। कुमार ने कहा कि दोबारा जरूरत पड़ी तो वायुसेना इससे ज्यादा बड़ी कार्रवाई को तैयार है। रिटायर्ड एयर मार्शल ने पाकिस्तान के उस दावे को भी झूठा करार दिया कि उसने भारतीय वायुसेना के सुखोई विमान को मार गिराया था।

हरि कुमार ने कहा, 'एसयू-30 को मार गिराने का पाकिस्तान का दावा केवल उसकी कल्पना है। उन्होंने कई हथियार गिराए लेकिन किसी चीज को निशाना नहीं बना पाए।' एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान की ओर से कथित बदला लिए जाने के दावे पर रिटायर्ड एयर मार्शल ने कहा, '27 फरवरी की सुबह हमारे रडार पर पाकिस्तान की ओर से कुछ बढ़ी हुई एयर एक्टिविटी दिखी थी। लेकिन यह एक्टिविटी पूर्व की ओर थी, इसलिए इसमें कुछ भी खास नहीं था।' पूर्व सैन्य अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी विमान अंतरराष्ट्रीय सीमा या नियंत्रण रेखा के इस ओर नहीं आए थे। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस