Move to Jagran APP

Assam Flood: बाढ़ से असम में मचा हाहाकार! 28 जिलों में करीब 23 लाख लोग प्रभावित; 50 हजार से ज्यादा लोगों ने राहत शिविरों में ली शरण

Assam Flood असम में बाढ़ की स्थिति 8 जुलाई यानी की सोमवार को भी गंभीर बनी रही और 28 जिलों की लगभग 23 लाख आबादी इस बाढ़ से प्रभावित हुई है। राज्य में अधिकांश नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है। वहीं बाढ़ की लहर से 68432.75 हेक्टेयर फसल भूमि जलमग्न हो गई है। 315520 लोगों को राहत सामग्री प्रदान की गई है।

By Agency Edited By: Babli Kumari Mon, 08 Jul 2024 10:30 PM (IST)
असम में बाढ़ की स्थिति सोमवार को भी बनी रही गंभीर (फाइल फोटो)

पीटीआई, गुवाहाटी। असम में बाढ़ की स्थिति सोमवार को भी गंभीर बनी रही और 28 जिलों की लगभग 23 लाख की आबादी इससे प्रभावित हुई है। अधिकतर नदियों का जल स्तर खतरे के निशान से ऊपर है। राज्य में इस वर्ष बाढ़, भूस्खलन और तूफान में 78 लोगों की मौत हुई जबकि इनमें से केवल बाढ़ के कारण 66 लोगों की मौत हुई।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा कि बाढ़ प्रभावित जिलों में सभी राहत शिविरों में पूरी व्यवस्था की गई है और स्थिति सामान्य होने तक आवश्यक वस्तुओं का पर्याप्त भंडार रखा गया है। उन्होंने कहा कि बाढ़ राहत शिविरों की सुरक्षा और स्वच्छता सरकार की प्राथमिकता है और उनकी टीम वहां रह रहे लोगों के संपर्क में है।

3,446 गांवों के 23 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित

वर्तमान में, 28 जिलों में 3,446 गांवों के 23 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं, जबकि बाढ़ की दूसरी लहर से 68,432.75 हेक्टेयर फसल भूमि जलमग्न हो गई है। कुल 53,689 लोगों ने 269 राहत शिविरों में शरण ली है, जबकि राहत शिविरों में नहीं रह रहे 3,15,520 लोगों को राहत सामग्री प्रदान की गई है।

बाढ़ में 131 जंगली जानवरों की मौत

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में बाढ़ में अब तक कम से कम 131 जंगली जानवरों की मौत हो गई है, जबकि 97 जानवरों को बचा लिया गया है। मृत जानवरों में छह गैंडे, 117 हाग हिरण शामिल हैं, जिनमें 98 डूबने से, दो वाहन की टक्कर से मौत हुई है। इलाज के दौरान कुल 25 जानवरों की मौत हुई है। अधिकारी ने कहा कि वर्तमान में 25 जानवर चिकित्सा देखभाल में हैं, जबकि 52 अन्य को इलाज के बाद छोड़ दिया गया है।

यह भी पढ़ें- Rahul Gandhi: असम में बाढ़ तो मणिपुर में हिंसा पीड़ितों से मिले राहुल गांधी, केंद्र के सामने उठाएंगे दोनों राज्यों का मुद्दा