जगदलपुर। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने नक्सलवाद को खत्म करने के लिए विकास की रफ्तार बढ़ाने की पैरवी की है। उन्होंने कहा कि देश के सभी नक्सल प्रभावित इलाकों में विकास का काम पूरी गंभीरता और तेजी के साथ हो रहा है। वह बस्तर यही देखने आए हैं। रविवार को दक्षिण बस्तर स्थित सुकमा जिले के प्रवास पर जाते हुए राजनाथ सिंह ने एयरपोर्ट पर मीडिया से चर्चा में कहा कि बस्तर में छत्तीसगढ़ सरकार अच्छा काम कर रही है।

नक्सल विरोधी मोर्चे पर तैनात अर्धसैनिक बलों और पुलिस के बीच समन्वय की कमी से संबधित सवाल पर उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है। दोनों बलों के बीच अच्छा समन्वय है, इसे और मजबूत बनाने की जरूरत है। रायपुर में 30 मई को हुई यूनीफाइड कमांड की बैठक में भी इस मुद्दे पर गंभीरता से चर्चा हुई है। राजनाथ सिंह के साथ मुख्यमंत्री रमन सिंह भी रहे।

यह भी पढ़ें - बैडमिंटन खेलने कोर्ट पर उतरे राजनाथ सिंह, रमन सिंह ने दिया साथ

ड्रेस कोड में दिखाई दिए बस्तर के कलेक्टर:-

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बस्तर प्रवास पर काला चश्मा पहनकर तथा बिना ड्रेस कोड के आगवानी करने वाले बस्तर कलेक्टर अमित कटारिया रविवार को केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के सामने पूरे अनुशासित नजर आए। आज उन्होंने चश्मा नहीं लगाया था और आज वह सिविल सर्विस अधिकारियों के लिए बनाए गए नियमों के अनुरूप निर्धारित ड्रेस कोड में नजर आए। कलेक्टर अमित कटारिया ने संभागीय मुख्यालय का जिला कलेक्टर होने के नाते यहां डीआरडीओ एयरपोर्ट पर केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह की आगवानी की और हाथ मिलाया।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कलेक्टर का परिचय राजनाथ सिंह से कराया। विदित हो कि इसके पहले नौ मई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दंतेवाड़ा प्रवास के दौरान यहां एयरपोर्ट पर कलेक्टर श्री कटारिया ने आंखों में काला चश्मा व रंगीन ड्रेस पहनकर प्रधानमंत्री की आगवानी की थी।

यह भी पढ़ें - लू भी अब प्राकृतिक आपदा, सरकार देगी आर्थिक मदद : राजनाथ सिंह

यह भी पढ़ें - एक साल में गवर्नेंस और सुशासन की घर वापसी हुई: राजनाथ सिंह

साभार - नई दुनिया

Edited By: Sumit Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट