नई दिल्‍ली (एएनआइ)। सीबीआइ ने मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे कार्ति के घर पर छापेमारी की है। ये छापेमारी उनके दिल्‍ली और मुंबई के अलावा तमिलनाडु के सिवागंगई और चेन्‍नई स्थित आवास पर की गई है। सीबीआइ की ये छापेमारी मनी लाड्रिंग मामले में की गई है। इस छापेमारी के बाद चिदंबरम ने ट्वीट कर बताया कि आज सुबह उनके आवास पर छापेमारी हुई है। इस दौरान टीम ने उन्‍हें एक पेपर भी दिखाया जिसमें उनका नाम बतौर आरोपी शामिल नहीं था। इस छापेमारी के दौरान टीम को कुछ नहीं मिला। उन्‍होंने छापेमारी करने आई टीम की टाइमिंग पर भी सवाल उठाया और लिखा कि इसका टाइमिंग भी काफी दिलचस्‍प था।  

बता दें कि चिदंबरम के बेटे पर कई मामले चल रहे हैं। इनमें आईएनएक्‍स मीडिया को एफआईपीबी (Foreign Investment Promotion Board) की क्लियरेंस मिलने का भी मामला शामिल है जो करीब 305 करोड़ विदेशी फंड से जुड़ा है।

ये मामला तब का है जब चिदंबरम वित्‍त मंत्री थे। इनके ही मद्देनजर ये छापेमारी की गई है। सूत्रों का कहना है कि जांच एजेंसी ने कार्ति के खिलाफ एक नया मामला दर्ज किया है जो विदेशों से मिले पैसे से जुड़ा है। ये पैसा वर्ष 2010-14 के दौरान हासिल किया गया था। 

गौरतलब है कि इस वर्ष मार्च में निचली अदालत ने एयरसेल-मैक्सिस डील मामले में चली सुनवाई के बाद कार्ति चिंदबरम को जमानत देते हुए विदेश जाने की अनुमति दी थी। ये मामला सीबीआइ और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से दर्ज किया गया था। ईडी की ओर से दाखिल केस में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और उनके पुत्र कार्ति चिदंबरम आरोपित हैं।

Edited By: Kamal Verma