भुवनेश्वर,जेएनएन। दिवालिया घोषित की जा चुकी भूषण पावर एंड स्टील कंपनी के प्रमोटरों द्वारा जाली कागजात के आधार पर 5500 करोड़ रुपये का लोन लेने के मामले में ED (Enforcement Directorate) ने कंपनी की संबलपुर स्थित फैक्ट्री को अटैच कर लिया है। जब्त की गई संपत्ति की कीमत 4025 करोड़ रुपये बताई जा रही है। दिल्ली की CBI कोर्ट के निर्देश के आधार पर ED ने यह कार्रवाई की है।

ताजा मामले में कंपनी के प्रमोटर संजय सिंघल व अन्य के खिलाफ फर्जी कागजात दिखाकर पंजाब नेशनल बैंक और इलाहाबाद बैंक से लगभग 5500 करोड़ रुपये का कर्ज लेने की शिकायत की गई थी। इस मामले की जांच CBI कर रही थी।

दिल्ली के सीबीआई कोर्ट में चल रही है सुनवाई

CBI ने संजय सिंघल और अन्य के खिलाफ जालसाजी, आपराधिक साजिश, भ्रष्टाचार निरोधक कानून और मनी लॉड्रिंग के तहत मामला दर्ज किया था। इस मामले की सुनवाई दिल्ली स्थित CBI कोर्ट में चल रही है। सिंघल परिवार पर जालसाजी के आरोप की पुष्टि के बाद सीबीआइ कोर्ट ने ED को कंपनी की संपत्ति जब्त करने का निर्देश दिया।

गौरतलब है कि दिवालिया हो चुकी भूषण पावर एंड स्टील कंपनी को कानून बेचने की प्रक्रिया चल रही है। इस कंपनी को खरीदने के लिए 19500 करोड़ रुपये की सर्वाधिक बोली का टेंडर JSW स्टील ने भरा है। कंपनी पर वर्तमान में 48000 करोड़ रुपये का बैंक कर्ज है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस