नई दिल्ली, एजेंसी। लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) पश्चिम बंगाल में हिंसा के मद्देनजर सात चरणों में मतदान किया जा रहा है। अभी तक चार चरणों का मतदान हो चुका है। मतदान के दौरान राज्य में कई हिंसा की खबरें सामने आई हैं। अब चुनाव आयोग (Election Commission) ने निर्देश जारी किया है कि मतदान के दौरान ना तो पश्चिम बंगाल पुलिस और ना ही केंद्रीय बल पोलिंग बूथ के अंदर प्रवेश करेंगे। ये तभी मतदान केंद्र के अंदर प्रवेश कर सकते है जब मतदान अधाकिरी उन्हें बुलाए। 

चुनाव आयोग का ये फैसला मतदान के दौरान हुई हिंसा के बाद आया है। इससे पहले तक खबरें थी कि सिर्फ केंद्रीय बलों को पोलिंग बूथ के अंदर प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी हालांकि, बाद में स्थिति को साफ करते हुए कहा गया की दोनों को की पोलिंग बूथ के अंदर जहां मतदान चल रहा हो वहां प्रवेश नहीं करेंगे। 

भाजपा ने किया चुनाव आयोग का रुख

जानकारी के लिए बता दें कि मतदान के दौरान हुई हिंसा के बाद भाजपा ने आरोप लगाया था कि पोलिंग बूथ के पास से केंद्रीय बलों को हटाकर राज्य पुलिस को तैनात किया जा रहा है। भाजपा ने आरोप लगाया कि ऐसा करके चुनाव को प्रभावित किया जा रहा है। 

टीएमसी ने लिखा चुनाव आयोग को पत्र
वहीं तृणमूल कांग्रेस ने निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर केंद्रीय सुरक्षा बलों पर गंभीर आरोप लगाए थे। टीएमसी ने कहा था कि केंद्रीय बलों ने पोलिंग बूथ के भीतर फायरिंग के जरिए मतदाताओं में भय पैदा किया। केंद्रीय बलों के जवान मतदाताओं से भाजपा के पक्ष में वोट करने का आग्रह भी कर रहे थे। पार्टी ने लिखा है कि केंद्रीय सुरक्षा बल मुरारोई और बीरभूम में पोलिंग बूथ के भीतर घुस गए और लोगों को मतदान करने बाधा पैदा करने का काम किया।

बता दें कि पिछले चरणों की तरह इस बार भी पश्चिम बंगाल से चुनावी हिंसा की खबरें आ रही हैं। आसनसोल में कुछ लोगों ने केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो की कार का शीशा तोड़ दिया। हालांकि, इस हमले में भाजपा नेता को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। सुप्रियो ने तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर हिंसा करने का आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि 6 मई को पांचवे चरण के लिए मतदान किया जाएगा। इस दौरान पश्चिम बंगाल में बंगांव, बैरकपुर, हावड़ा, उलुबेरिया, श्रीरामपुर, हुगली, आरामबाग सीट पर वोट डाले जाने हैं।

Posted By: Ayushi Tyagi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप