जेएनएन, नई दिल्ली। Cyclone Fani बंगाल की खाड़ी में उठे समुद्री तूफान फानी ने शुक्रवार को पुरी सहित ओडिशा के अन्य जिलों में जमकर तबाही मचाई। ओडिशा में तबाही मचाने के बाद चक्रवाती तूफान फानी आगे बढ़ गया है, पीछे रह गया है तो सिर्फ बर्बादी का मंजर। ओडिशा में फानी तूफान की वजह से अब-तक 33 लोगों की मौत हो गई है, फिलहाल युद्धस्तर पर राहत कार्य जारी है। व

राहत बचाव में लगे अधिकारियों के मुताबिक आपदा के कारण मरने वालों की संख्या शनिवार तक 12 थी, रविवार को यह संख्या बढ़कर 33 हो गई । 

14 यात्री ट्रेनों की सेवा बहाल 
ईस्ट कोस्ट रेलवे कल से 14 यात्री ट्रेनों की सेवा दोबारा शुरू हो गई हैं। चक्रवात की वजह से यह सेवा बंद कर दी गई थी।

बांग्लादेश में 14 की मौत, 63 घायल
भारत में शुक्रवार को तबाही मचाने के बाद फानी चक्रवात ने शनिवार को बांग्लादेश में अपना रौद्र रूप दिखाया। इसके कारण हुए हादसों में यहां 14 लोगों की मौत हो गई जबकि 63 अन्य घायल हुए हैं।बांग्लादेश के अधिकारियों ने बताया कि करीब 16 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित किया गया है क्योंकि देश में तटीय इलाकों के करीब 36 गांवों में चक्रवात के कारण पानी भर गया है। इन सुरक्षित स्थानों में चार हजार आश्रय स्थल शामिल हैं। 

हरक्यूलिस विमान तैयार
Humanitarian Aid and Disaster Relief (HADR) के तहत, भारतीय वायु सेना भुवनेश्वर के लिए तीन C-130J सुपर हरक्यूलिस विमान लॉन्च करने वाला है। यह विमान लगभग 45 टन राहत सामग्री लेकर जाएगा, जिसमें चक्रवात की चपेट में आने वाले स्थानों के लिए आपातकालीन उपकरण और दवाएं भी शामिल हैं। चक्रवात के बारे में पहली चेतावनी मिलने के बाद से ही  IAF ने इसे लॉन्च करने के लिए स्टैंडबाय पर रखा था। चक्रवात से प्रभावित हवाई क्षेत्रों में लैंडिंग की सुविधा बहाल करने के इंतजार में विमान को हिंडन में तैनात किया गया था। पहला C-130J 9 बजे रात को भुवनेश्वर में उतरेगा। इससे पहले भारतीय वायु सेना का एमआई -17 हेलीकॉप्टर मानवीय सहायता और आपदा राहत कार्यों के लिए भुवनेश्वर पहुंचा। गुवाहाटी एयरबेस से लॉन्च किया गया यह हेलिकॉप्टर उन वायुसेना के विमानों में से एक है, जो चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में तैनात है।

पूर्वोत्तर में 81 उड़ानें निरस्त
भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (Airport Authority of India) के पूर्वोत्तर रीजन के मुख्यालय के अनुसार तूफान फानी की वजह से कुल 81 उड़ानें प्रभावित हुई हैं। सबसे ज्यादा 59 फ्लाइट्स गुवाहाटी से निरस्त की गई हैं। इसके अलावा अगरतला से आठ, दिमापुर से दो, लिलाबारी से दो, डिब्रुगढ़ से चार और इम्फाल से छह उड़ानों को फानी तूफान की वजह से निरस्त किया गया है।

यूएन ने की तारीफ
बंगाल की खाड़ी से उठे विनाशकारी चक्रवात 'फानी' से निपटने की भारत की तैयारियों को संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने सराहा है। यूएन एजेंसी फॉर डिजास्टर रिस्क रिडक्शन ने चक्रवात का सटीक पूर्वानुमान लगाने और सही वक्त पर चेतावनी जारी करने के लिए भारत के मौसम विभाग की भी तारीफ की है। एजेंसी ने कहा कि इसी कारण लोगों को सही वक्त पर सुरक्षित स्थान पहुंचाना संभव हुआ और जिससे जानमाल का नुकसान कम हुआ।

चल रहा राहत बचाव कार्य
भारतीय तटरक्षक की आपदा राहत टीम और ओडिशा डिजास्टर रैपिड एक्शन फोर्स मिलकर गांवों में राहत कार्य चला रही है। तेज हवाओं और तेज बारिश के कारण पारादीप क्षेत्र के आसपास कई पेड़ उखड़ गए हैं। राहत बचाव में लगी टीम धनकिया गांव में खाने का सामान बांट रही है।

एनडीआरएफ की 65 टीमें तैनात
एनडीआरएफ के अनुसार फानी तूफान को देखते हुए पहले से ही उनकी 65 टीमों को आपदा संभावित जगहों पर राहत व बचाव कार्य के लिए तैनात कर दिया गया था। एनडीआरएफ की सबसे ज्यादा 44 टीमोंको ओड़िशा में, नौ टीमों को पश्चिम बंगाल में और तीन टीमों को आंध्र प्रदेश में तैनात किया गया था। इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड व मेघालय में एनडीआरएफ की एक-एक टीम और झारखंड, केरल व तमिलनाडु में एनडीआरएफ की दो-दो टीमों को तैनात किया गया था।

एयर इंडिया की पीड़ितों के लिए सराहनीय पहल
सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया ओडिशा में चक्रवाती तूफान फानी से प्रभावित लोगों की मदद के लिए आगे आया है। एयर इंडिया ने कहा है कि अगर कोई भी एनजीओ, सामाजिक संस्‍था या शख्‍स पीडि़तों की मदद के लिए राहत सामग्री भेजना चाहता है, तो एयर इंडिया को दे सकता है। एयर इंडिया इस राहत सामग्री को बिना किसी शुल्‍क के ओडिशा में चक्रवाती तूफान से पीडि़त लोगों तक पहुंचाएगी।

समुद्र में उठती ऊंची-ऊंची लहरों से लोग दहशत में रहे। तेज हवा से हजारों पेड़, झोपड़ियां और घर के छप्पर उजड़ गए। कई जगहों पर भूस्खलन हुआ। बिजली व्यवस्था और संचार व्यवस्था चरमरा गई है। कोलकाता-चेन्नई रूट पर 220 से अधिक ट्रेनें शनिवार से रद हैं। भुवनेश्वर हवाई अड्डे से शुक्रवार को सभी उड़ानें रद रहीं।

फानी से प्रभावित राज्यों को निपटने के लिए केंद्र सरकार ने 1000 करोड़ रुपये जारी किए है। इसकी घोषणा शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने की। इससे पहले 11 लाख लोगों को प्रभावित इलाकों से पहले ही हटा लिया गया था, जिससे नुकसान काफी कम हुआ। 10,000 गांवों और 52 शहरी क्षेत्रों को खाली करा लिया गया था। 

बांग्लादेश की ओर मुड़ा तूफान
पुरी से गुजरने के बाद फानी चक्रवात खुर्दा, भुवनेश्वर, कटक, भद्रक, व बालेश्वर होते हुए पश्चिम बंगाल से गुजर कर बांग्लादेश की ओर चला गया। इससे पहले फानी तूफान का बाहरी आवरण शुक्रवार को सुबह करीब नौ बजे पुरी जिले के गोपालपुर और चांदबली के बीच जमीन से टकराया। उस समय इसकी गति सौ किमी प्रति घंटे थी। जैसे-जैसे तूफान का केंद्र तट की ओर बढ़ता गया इसकी गति भी तीव्र हो गई। जब तूफान का केंद्र सुबह करीब दस बजे पुरी में तट से टकराया तो उस समय उसकी रफ्तार 245 किमी प्रति घंटा मापी गई। जो धीरे धीरे कमजोर पड़ती चली गई। पिछले 43 साल में यह सबसे तीव्र गति का तूफान था। 

बस्तियों से हटा लिए गए थे लोग
तूफान की वजह से भुवनेश्वर में तेज हवाओं से लोग बुरी तरह सहम गए। भुवनेश्वर में 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवा व भारी बारिश के कारण तमाम जगहों पर विशालकाय पेड़ भी धराशायी हो गए। प्रशासन की तरफ से बस्ती में रहने वाले लोगों को पहले ही सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया था। बावजूद इसके भुवनेश्वर में काफी संख्या में लोग बस्तियों में रुके रहे। जिन्हें शुक्रवार को तबाही के बाद आश्रय स्थल में लाया गया।

एक लाख भोजन के पैकेट तैयार
प्रभावितों के लिए सूखे भोजन के एक लाख पैकेट और इन्हें वितरित करने के लिए दो हेलीकॉप्टर तैयार हैं। भारतीय तटरक्षक बल के पास विशाखापट्टनम, चेन्नई, गोपालपुर, हल्दिया, फ्रेजरंगज और कोलकाता के विभिन्न स्थानों पर 34 आपदा राहत दल हैं। किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए चार जहाज तैनात हैं। भारतीय नौसेना ने राहत सामग्री और चिकित्सा दलों के साथ तीन जहाजों को भी तैनात किया है ताकि वह बचाव अभियान शुरू कर सके। 17 जगह पर स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से विशेष व्यवस्था की गई है। 

पीएम ने दिया हर संभव मदद का भरोसा
 राजस्थान के करौली-धौलपुर में रैली के लिए पहुंचे पीएम मोदी ने फानी का भी जिक्र किया। कहा कि केंद्र सरकार प्रभावित राज्यों की सरकारों के साथ लगातार संपर्क में है और एक दिन पहले ही इसके लिए 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि जारी की जा चुकी है।

राहत सामग्री की मुफ्त ढुलाई करेगा रेलवे  
रेलवे ने कहा है कि चक्रवात प्रभावित ओडिशा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश के लिए वो राहत सामग्रियों की मुफ्त ढुलाई करेगा। रेलवे ने इस संबंध में दिशानिर्देश जारी किए हैं। साथ ही सभी मंडल रेल प्रबंधकों (डीआरएम) को इस संबंध में पत्र भी लिखा है। रेलवे के मुताबिक जिलाधिकारी और कमिश्नर के माध्यम से राहत और सहायता सामग्री फानी प्रभावित राज्यों को भेजे जा सकते हैं। सरकारी संगठनों द्वारा भेजे जाने वाली सामग्री की ढुलाई रेलवे मुफ्त करेगा। संबंधित जिलों में जिलाधिकारी और कमिश्नर ही राहत सामग्री को प्राप्त भी करेंगे।

बंगाल में भी व्यापक असर
फानी का पश्चिम बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर जिलों में व्यापक असर देखा गया। आंधी के चलते 185 मकानों के क्षतिग्रस्त हुए। नौ घायल हुए। शासन ने स्पष्ट किया कि मनाही के बावजूद समुद्र में जाने वाले मछुआरों के खिलाफ कार्रवाई होगी। लगातार माइकिंग की जा रही है। नदियों में नावों के आवागमन पर रोक है। हल्दिया बंदरगाह से करीब 15 नॉटिकल मील (करीब 28 किमी) दूर स्थित बंदरगाह में माल चढ़ाने और उतारने का कार्य बुधवार से स्थगित है। वहीं राज्य में एक व्यक्ति के मारे जाने की भी सूचना है।

असम में भी हाई अलर्ट 
चक्रवाती तूफान फानी के पश्चिम बंगाल से टकराने के बाद पूरे पूर्वोत्तर में भारी बारिश की आशंका जताई गई है। इसको देखते हुए असम सरकार ने सभी जिलों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया है। मध्य जल आयोग ने चार और पांच मई को पश्चिमी और मध्य असम के जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई है। राज्य आपदा राहत बल को पूरे राज्य में 40 जगहों पर तैनात किया गया है।

बिहार में तीन मरे
उत्तर बिहार के कई क्षेत्रों में शुक्रवार को चक्रवात फानी के प्रभाव से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। कई जगह पेड़ गिरने से आवागमन बाधित हो गया। बिजली ठप हो गई। घरों के छप्पर उड़ गए। ठनका गिरने से पश्चिम चंपारण में दो लोगों की मौत हो गई।

आंध्र के चार जिलों को आचार संहिता में छूट
चुनाव आयोग ने चक्रवात फानी को देखते हुए आंध्र प्रदेश के चार जिलों में आदर्श आचार चुनाव संहिता में ढील दे दी है, ताकि राहत और बचाव के कार्य तेजी से चलाए जा सकें। आंध्र प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी ने चुनाव आयोग से पूर्वी गोदावरी, विशाखापट्टनम, विजयानगरम और श्रीकाकुलम के लिए आदर्श आचार संहिता में ढील देने की मांग की थी, जिसे आयोग ने मान लिया है। हालांकि, श्रीकाकुलम को छोड़कर आंध्र प्रदेश के तटवर्ती इलाकों में फानी का कुछ ज्यादा असर नहीं पड़ा है। तेज हवाओं के चलते कुछ पेड़, बिजली के खंबे और टेलीफोन के टॉवर जरूर उखड़े गए हैं। बिजली और संचार व्यवस्था को बहाल करने का काम तेजी से चल रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य के तटवर्ती इलाकों में सिर्फ सात गांवों पर ही इसका असर पड़ा है, यहां तेज बारिश हो रही है, लेकिन जान-माल के किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है। 

दो दशकों में ओडिशा में चक्रवात 
29 अक्टूबर 1999 : महाचक्रवात
4 अक्टूबर 2013 : फेलिन
12 अक्टूबर 2014 : हुदहुद
10 अक्टूबर 2018 : तितली

फानी  का असर
-भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार में झारखंड में अपनी सभी तीन रैलियों को रद किया।
-बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी आज होने वाली अपनी सभी रैलियों को रद किया।
-बंगाल में फानी के मद्देनजर स्ट्रांग रूम की सुरक्षा पर आयोग ने मांगी रिपोर्ट।
-हजारों पेड़ धराशायी, 11 लाख को प्रभावित क्षेत्रों से हटाया।
-220 से अधिक ट्रेनें व भुवनेश्वर से सारी उड़ानें रद, कोलकाता एयरपोर्ट भी बंद।
-प्रभावित राज्यों को केंद्र ने दी 1000 करोड़ की मदद।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप