नई दिल्ली, एएनआइ। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भारत बायोटेक (Bharat Biotech) की कोवैक्सीन के आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी नहीं दी। रिपोर्ट के मुताबिक, आपातकालीन उपयोग केे लिए मंजूरी मिलने में थोड़ा और समय लग सकता है। इसके लिए संगठन ने भारत बायोटेक को कोवैक्सीन की मंजूरी के लिए और आवश्यक डेटा जमा कराने को कहा है।

बता दें कि कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य मंत्रालय ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को आपातकालीन उपयोग (EUA) की मंजूरी जल्द ही मिलने की उम्मीद जताई थी। स्वास्थ्य राज्य मंत्री डा भारती प्रवीण पवार ने कहा था कि डब्लूएचओ जल्द ही कोवैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी देगा। इससे पहले खबर सामने आई थी कि भारत के इस टीके को 5 अक्टूबर तक आपात उपयोग के लिए डब्लूएचओ से मंजूरी मिल जाएगी।

बता दें कि कंपनी ने हाल ही में कहा था कि उसने आपात इस्तेमाल की मंजूरी के लिए कोवैक्सीन से संबंधित सभी डेटा डब्ल्यूएचओ को सौंप दिया है और इसके फीडबैक का इंतजार कर रहा है। कोवैक्सीन तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल में 77.8 प्रतिशत की प्रभावी पाया गया था। इसे हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और नेशनल इंस्टीट्यूट की आफ वायरोलाजी (NIV) के सहयोग से विकसित किया था। भारत बायोटेक ने कहा था कि आपात इस्तेमाल की मंजूरी के लिए ट्रायल से संबंधित सभी डेटा डब्ल्यूएचओ को समक्ष प्रस्तुत कर दिया गया है और संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी द्वारा मांगे गए सभी स्पष्टीकरणों का जवाब भी दे दिया गया है।

 

Edited By: Pooja Singh