तिरुवनंतपुरम, एएनआई। केरल में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए राज्य में वॉक इन सैंपल कियोस्क (WISK) की स्थापना की है। ये उन ऐसे लोगों के सैंपल इकट्ठा करेंगे जो कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। कियोस्क के जरिए पीसीआर टेस्ट और रैपिड टेस्ट किया जा सकता है। महाराष्ट्र के बाद केरल ही ऐसा राज्य है जहां कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या ज्यादा है। 

बता दें कि हाल ही में केरल में कोरोना वायरस के 13 नए मामले सामने आए हैं। जिनमें से 9 कासरगोड़, 2 मलाप्पुरम और 1 मरीज कोल्लम पथनमथिट्टा में मिले हैं। कासरगोड़ में मिले कुल मामलों में 6 लोग विदेश से लौटे हैं, जबकि 3 का संक्रमण आपसी है जनवरी में जो सबसे पहला मामला सामने आया था वह भी केरल  का ही है। यहां चीन के वुहान शहर से तीन छात्र आए थे जो कोरोना पॉजिटिव थे।

हालांकि अब ये सभी लोग ठीक हो गए हैं।जानकारी के लिए बता दें कि देश में लगातार कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। फिलहाल कोरोना संक्रमितों की संख्या देश में 4000 के पार पहुंच गई है, वहीं ठीक होने वालों की संख्या 200 के पार है। फिलहाल कोरोना के प्रसर को रोकने के लिए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन की जिसकी अवधि 14 अप्रैल तक है। वहीं कई राज्य सरकारें बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार से अपील कर रहे हैं कि लॉकडाउन की अवधि को और बढ़ा दिया जाए। हालांकि, सरकार  ने अभी इस बारे में कोई फैसला नहीं लिया है। बाद में संक्रमितों की स्थिति को देखते हुए फैसला किया जाएगा।

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस