दुर्ग, नई दुनिया। जिला अदालत ने आज यहां दुष्कर्म और हत्या के एक मामले में बड़ा फैसला लेते हुए आरोपी को फांसी की सजा सुनाई है। इसके साथ ही दो सह आरोपियों को पांच-पांच साल की कैद की सजा सुनाई गई है। आरोपी ने पांच साल की मूक-बधिर बच्ची के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी थी। छत्तीसगढ़ में यह पहला मामला है जिसमें मासूम से दुष्कर्म और हत्या के आरोपी को फांसी की सजा सुनाई गई है। इस स्पेशल जस्टीज शुभ्रा पचौरी ने ये फैसला सुनाया है।

साल 2015 में खुर्सीपार निवासी राम सोना ने इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया था। इस मामले में दो आरोपियों में मुख्य आरोपी राम सोना की मां को साक्ष्य छुपाने के आरोप में पांच साल की सजा सुनाई गई है। साथ ही एक अन्य को भी सह आरोपी करार दिया गया है। आरोपी ने पांच साल की मासूम से दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या कर दी थी। हत्या के बाद उसने अपने साथी के साथ मिलकर शव को ठिकाने लगाया था।

जिसके बाद से आरोपी फरार था। केस दर्ज होने के बाद पुलिस ने फरार आरोपी को गिरफ्तार किया। आरोपी को फांसी की सजा के ऐलान के बाद पीड़ित परिजनों ने कोर्ट के फैसले पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि उनकी बेटी को सच्चा न्याया मिला है और समाज में ऐसा अपराध करने वालों को यही सजा मिलनी चाहिए, ताकि आगे से ऐसा करने की कोई हिम्मत न कर सके।

Posted By: Ravindra Pratap Sing