नई दिल्‍ली, एजेंसी।  जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन 2021 में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि जलवायु अनुकूलन आज पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है और यह भारत के विकास प्रयासों का एक प्रमुख तत्व है। हमने खुद से वादा किया है कि हम सिर्फ पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा नहीं करेंगे, बल्कि उनसे भी आगे बढ़ेंगे। हम 2030 तक अक्षय ऊर्जा क्षमता से 450 गीगावाट उत्‍पादन का लक्ष्‍य बनाया है। हम एलईडी रोशनी को बढ़ावा दे रहे हैं और सालाना 38 मिलियन टन सीओ 2 उत्सर्जन की बचत कर रहे हैं। हम 2030 तक 26 मिलियन हेक्टेयर खराब भूमि को बहाल करने जा रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि मैं आप सभी को भारत में इस वर्ष के अंत में आपदा रोधी संरचना पर तीसरे अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में आमंत्रित करता हूं। पीएम ने कहा कि हमारी पहल केवल भारत तक ही सीमित नहीं है। आपदा समाधान के लिए अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन और गठबंधन वैश्विक जलवायु साझेदारी की शक्ति दिखा रहे हैं। वैश्विक स्तर पर बुनियादी ढांचे के लचीलेपन को बढ़ाने के लिए सीडीआरआई के साथ काम करने के लिए मैं ग्लोबल कमीशन को अपनाने की पहल करता हूं। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप