नई दिल्ली, प्रेट्र। सरकार ने शनिवार को कोविन सिस्टम (Co-WIN system) की हैकिंग व इससे डाटा लीक जैसे दावों को खारिज कर इसे आधारहीन करार दिया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविन सिस्टम की कथित हैकिंग के मामले की जांच पड़ताल सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्रालय की कंप्यूटर इमरजेंसी रेस्पॉन्स टीम द्वारा कराए जाने की बात कही।

वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन पर एम्पावर्ड ग्रुप के चेयरमैन डॉक्टर आरएस शर्मा (Dr R S Sharma) ने स्पष्टीकरण दिया। उन्होंने कहा, 'कथित हैकरों द्वारा कोविन सिस्टम में सेंध लगाने और डाटा लीक की बातें बेबुनियाद है। समय-समय पर हम उचित और जरूरी कदम उठाते रहते हैं ताकि कोविन पर लोगों का डाटा सुरक्षित रहे।' कोरोना वैक्सीनेशन की रजिस्ट्रेशन की सुविधा देने वाली कोविन प्लेटफार्म के हैक व इससे डाटा लीक की खबरों का सरकार ने खंडन किया है। सरकार ने कहा है कि यहां लोगों का डाटा पूरी तरह सुरक्षित है।

कोविन चीफ आरएस शर्मा ने सोशल मीडिया पर वायरल हुए कोविन से जुड़ी भ्रामक खबरों ने सरकार का ध्यान खींचा। इसके तुरंत बाद मामले में जांच शुरू करवाई गई। उन्होंने कहा कि कोविन से डाटा लीक कैसे हो सकती है जब वहां किसी तरह का डाटा है ही नहीं। इस एप को हैक नहीं किया जा सकता है क्योंकि कोरोना से जुड़े किसी भी तरह की जानकारी को दूसरे किसी भी जगह शेयर नहीं किया जाता है।

Edited By: Monika Minal