नारायणपुर, जेएनएन।  छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में स्थित आईटीबीपी के कैंप में बुधवार की सुबह जवानों के बीच आपसी नोकझोंक ने खूनखराबे का रूप ले लिया। अंधाधुध गोलियां चलीं जिसमें 6 जवानों की मौके पर मौत हो गई। इस घटना में दो जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें उपचार के लिए चॉपर की मदद से राजधानी रायपुर के अस्पताल में लाया जा रहा है। दोनों की स्थिति गंभीर बताई जा रही है। मृत जवानों में दो हवलदार और 4 सिपाही शामिल हैं। अभी इनके नामों की पुष्टि नहीं हो पाई है। यह सभी जवान बाहरी राज्यों के हैं, जो यहां कैंप में तैनात किए गए थे। घटना के कारणों की जांच की जा रही है।

नारायणपुर जिला मुख्यालय से करीब 60 किलोमीटर दूर कड़ेनार में आइटीबीपी के जवानों के बीच आपस में गोलीबारी होने से छह जवान मारे गए हैं। वहीं, दो जवानों को गोली लगने से गंभीर रूप से घायल होना बताया जा रहा है। घटना की पुष्टि करते एसपी मोहित गर्ग ने बताया कि बुधवार की सुबह कैंप में जवानों के बीच आपस में गोलीबारी होने से छह जवानों की मौके पर मौत हो गई है। वहीं, दो जवान घायल हुए हैं, जिन्हें बेहतर इलाज के लिए हेलिकॉप्टर से रायपुर ले जाया जा रहा है।

घटना में मारे गए और घायल हुए जवानों का परिचय

घटना में मारे गए जवानों में हेड कॉन्स्टेबल महेंद्र सिंह, निवासी ग्राम संदियार, जिला बिलासपुर हिमाचल प्रदेश। हेड कॉन्स्टेबल दलजीत सिंह, निवासी ग्राम जागपुर, जिला लुधियाना, पंजाब। कॉन्स्टेबल मसुदुल रहमान, निवासी ग्राम बिलकुमरी, जिला नदिया, पश्चिम बंगाल। कॉन्स्टेबल सुरजीत सरकार, निवासी ग्राम नॉर्थ श्रीरामपुर, जिला बर्दवान, पश्चिम बंगाल। कॉन्स्टेबल बिश्वरूप महतो, निवासी ग्राम खुरमुरा, जिला पुरुलिया, पश्चिम बंगाल और कॉन्स्टेबल बिजेस, निवासी ग्राम इरावाट्टोर, जिला कोझिकोड, केरल शामिल हैं।

घटना में घायल हुए जवानों में कॉन्स्टेबल उल्लास, निवासी ग्राम पुलिमठ, जिला तिरुअनंतपुरम, केरल और कॉन्स्टेबल सीता राम दून, निवासी ग्राम नायाबास, जिला नागौर, राजस्थान शामिल हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस