नई दिल्‍ली, एएनआइ। केंद्र सरकार ने कोरोना लॉकडाउन के दौरान फसलों की कटाई के लिए हार्वेस्टिंग मशीनों के आवा-गमन की छूट दी है। केंद्रीय कृषि मंत्री (Union Agriculture Minister) नरेंद्र तोमर (Narendra Tomar) ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करते हुए किसानों को फसलों की कटाई की इजाजत दे दी है। केंद्रीय मंत्री तोमर ने बताया कि हम देशभर में भोजन एवं अन्य जरूरी वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित कर रहे हैं। कृषि हमारे देश की एक प्रमुख गतिविधि है। इसको ध्‍यान में रखते हुए कीटनाशकों, उर्वरकों, बीजों जैसी वस्तुओं की बिक्री को लॉकडाउन से छूट दी गई है। 

दरअसल, लॉकडाउन के चलते हार्वेस्टिंग मशीनों (harvesting machines) का आवागमन नहीं हो रहा था। इससे गेहूं की पक चुकी फसल की कटाई में किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। किसानों का कहना था कि मजदूर मिल नहीं रहे हैं और हार्वेस्टिंग मशीनें ने मिल नहीं रही हैं ऐसे में फसल के बर्बाद होने का खतरा पैदा हो गया है। किसानों का यह भी कहना था कि लॉकडाउन के चलते हार्वेस्टिंग मशीनों के ऑपरेटर भी काम पर नहीं आ रहे है ना तो मशीनों की मरम्‍मत के सामान उपलब्‍ध हो रहे हैं जिससे मशीनों का संचालन नहीं हो रहा है। 

किसानों की समस्‍याओं को लेकर भी कई रिपोर्टें सामने आ रही थीं। किसानों का कहना था कि उन्‍होंने जो बाकी फसलें लगाई हैं उन पर कीड़ों का हमला हो चुका है जिससे उनके भी बर्बाद होने का खतरा है। किसानों की यह भी शिकायत थी कि उन्‍हें ना तो बीज मिल रहे हैं ना ही कीटनाशक और उर्वरक... इससे आने वाली फसलें भी प्रभावित हो रही हैं। किसानों की यह भी समस्‍या थी कि उनकी फसलों का मंडियों तक पहुंचाने और उनकी बिक्री में भी समस्‍याएं पेश आ रही हैं। अब जबकि सरकार ने कृषि से जुड़े उत्‍पादों की खरीद बिक्री और कामकाज को लॉकडाउन से कुछ छूट दी है तो ऐसे में उम्‍मीद की जानी चाहिए कि किसान राहत की सांस लेंगे...  

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस