नई दिली, (जागरण ब्यूरो)। डेंटल कॉलेजों में होने वाली गड़बडि़यों पर लगाम लगाने के इरादे से अब प्रावधान किया गया है कि उसके कैंपस के वीडियो का सीधा प्रसारण वेबसाइट के जरिए किया जाए। डेंटल कॉलजों पर निगरानी करने वाली भारतीय दंत चिकित्सा परिषद (डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया) ने 15 दिसंबर से इसे अनिवार्य करने का फैसला किया है। साथ ही सभी डेंटल कॉलेजों के प्रमुखों को खुद परिषद में पहुंच कर यह सुनिश्चित करने को कहा है कि छात्रों से संबंधित सभी सूचनाएं उनकी वेबसाइट पर ताजा स्वरूप में मौजूद हों।

भारतीय दंत चिकित्सा परिषद ने देश के सभी डेंटल कॉलेजों को आदेश जारी किया है कि वे अपने परिसर के बताए जा रहे स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगा लें। साथ ही उन्हें इंटरनेट से जोड़ कर परिषद को इस तरह उपलब्ध करवाएं कि इसे किसी भी वक्त लाइव देखा जा सके। इसने यह भी कहा है कि इस लाइव फीड को परिषद की वेबसाइट के जरिए आम लोगों के लिए भी उपलब्ध करवाया जाएगा। कॉलेजों को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि इस काम के लिए अच्छी क्वालिटी का इंटरनेट कनेक्शन कॉलेज में उपलब्ध रहे। 15 नवंबर को जारी इस पत्र में कहा गया है कि एक महीने के अंदर अगर उन्होंने यह सुविधा उपलब्ध नहीं करवा ली तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

परिषद ने कहा है कि देश भर में दंत चिकित्सा शिक्षा की गुणवत्ता को सुनिश्चित करने और पूरे काम-काज में पारदर्शिता लाने के लिए यह किया जा रहा है। इस आदेश के तहत कॉलेजों को अपने ओपीडी रजिस्ट्रेशन काउंटर, कंजर्वेटिव और एंडोडांटिक्स क्लीनिक, किसी भी एक लेक्चर हॉल और शिक्षकों की बायोमेट्रिक उपस्थिति दर्ज करने वाली एटेंडेंस मशीन वाले इलाके का सीसीटीवी कवरेज सुनिश्चित करने को कहा गया है। इसमें यह भी बताया गया है कि इन कैमरों की गुणवत्ता कैसी हो।

यह फैसला भारतीय दंत परिषद की 13-14 अक्तूबर को हुई कार्य समिति की पिछली बैठक के दौरान हुआ था। सभी कॉलेजों के प्रिंसिपल को व्यक्तिगत तौर पर परिषद पहुंच कर वेबसाइट पर सभी जरूरी सूचनाओं की सत्यता और उपलब्धता सुनिश्चित करने को भी कहा गया है।

दाखिला रद करने के खिलाफ हाई कोर्ट पहुंचे बीडीएस के छात्र

Edited By: Manish Negi