नई दिल्‍ली, जेएनएन। केरल में बाढ़ पीडि़तों के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के सदस्‍य जरूरतमंदों की सहायता करने के लिए निस्‍वार्थ भाव से जुटे हुए हैं। एनडीआरएफ के वालंटियर 32 वर्षीय केपी जयसल ने जरूर पड़ने पर खुद को सीढ़ी बनाकर भी लोगों की मदद की, जिसे किसी शख्‍स ने वीडियो बना लिया। ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और अब जयसल की आर्थिक सहायता करने के लिए हजारों लोग सामने आ रहे हैं। कुछ लोगों ने उन्‍हें घर तक देने की बात कह रहे हैं।

जयसल ने बताया कि उनकी टीम को सूचना मिली थी कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्र मुथलामंडू में कुछ लोग फंसे हुए हैं। बताया गया था कि इन लोगों में एक गर्भवती महिला भी हैं, जिसकी तबीयत ठीक नहीं है। उन्‍होंने बताया, 'मुझे ये पता था कि एक गर्भवती महिला के लिए नाव में चढ़ना संभव नहीं होगा। हम जब पहुंचे तो मैंने देखा कि वहां उम्‍मीद से ज्‍यादा लोग मौजूद थे। इन लोगों में यह पता कर पाना बेहद मुश्किल था कि गर्भवती महिला कौन हैं? फिर वहां काफी बच्‍चे भी मौजूद थे। ऐसे में मैं घुटनों तक झुक गया, जिससे लोगों का नाव में चढ़ना आसान हो गया। मुझे नहीं पता कि इस दौरान किसने वीडियो बना लिया और फिर उसे सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया।'

बता दें कि जयसल एक कमरे के घर में रहते हैं, जिसकी छत भी बरसात में तपकती है। वह एक मछुआरे हैं, लेकिन एक साल पहले उनकी नाव भी बह गई थी, जिसके बाद उनके सामने पत्‍नी और तीन बच्‍चों के पालन-पोषण की समस्‍या बनी हुई है। लेकिन इतनी मुश्किलों के बावजूद वह कोई आपदा आने पर लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। जयसल कहते हैं, 'अगर देश में कोई ऐसी आपदा आती है, तो सबको मदद के लिए आगे आना चाहिए। मैं पिछले दस सालों से आपदा के बाद मुश्किल में फंसे लोगों की मदद करता आ रहा हूं, मुझे ऐसा करने में बेहद सुकून मिलता है।'

केरल में अब पानी का स्‍तर कम हो रहा है, ऐसे में जयसल अपनी टीम के साथ लोगों के घरों को साफ करने में जुटे हुए हैं। लेकिन वीडियो वायरल होने के बाद जयसल की मदद करने के लिए कई लोग आग आ गए हैं। एक स्‍थानीय संस्‍था ने उन्‍हें नया घर ऑफर किया है। इधर फिल्‍म डायरेक्‍टर विनयन ने उनकी आर्थिक मदद करने की इच्‍छा जताई है। बाढ़ पीड़ितों के लिए जयसल का यह समर्पण हर किसी के दिल को छू रहा है। जो भी इस वीडियो को देख रहा है, वह एनडीआरएफ की दिल खोल कर तारीफ कर रहा है। वहीं जयसल की आर्थिक मदद के लिए हाथ बढ़ा रहा है।

केरल में आई बाढ़ के शुरुआत से ही एनडीआरएफ की टीम के जवान वहां पर लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाने में लगे हैं। एनडीआरएफ ने केरल में राहत कार्य के लिए 58 टीमें बनाई हैं। हाल ही में एक वीडियो में यहां तक देखा गया कि एनडीआरएफ का एक जवान मुश्किल में फंसे लोगों को नाव पर चढ़ाने के लिए खुद सीढ़ी बन गया। गौरतलब है कि केरल के 11 जिलों में लोग भारी बारिश और बाढ़ के चलते बेघर हो गए हैं। एनडीआरएफ ने अब तक कुल 10 हजार से ज्यादा लोगों को बाढ़ से बचाकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया है। अब तक केरल में भारी बारिश और बाढ़ की वजह से 357 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। अगर केरल को छोड़ दें तो एनडीआरएफ 73 ऑपरेशन को अंजाम दे चुकी हैं।

वर्ष 2014 में मेघालय और जम्‍मू कश्‍मीर में आई बाढ़, 2015 में नेपाल में आए भूकंप, 2015 में आई चेन्‍नई में बाढ़, 2016 में बिहार, यूपी और मध्‍य प्रदेश में आए भूकंप, 2016 में उत्तराखंड में लगी आग, 2016 में ट्रेन एक्‍सीडेंट के दौरान एनडीआरएफ का काम काफी सराहनीय रहा है। एनडीआरएफ अपने गठन से लेकर आज तक 5,52,018 लोगों को बचा चुकी है।

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप