कोझीकोड। कारीपुर हवाई अड्डे पर हिंसक झड़प मामले में 15 लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया है। बुधवार देर रात को हुई घटना में सीआइएसएफ जवान जयपाल यादव की गोली लगने से मौत हो गई थी। बृहस्पतिवार को हवाई अड्डे पर उड़ानों को भी बहाल कर दिया गया।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अर्धसैनिक बल के महानिदेशक से बात कर हालात का जायजा लिया है। मंत्रालय को विस्तृत रिपोर्ट का इंतजार है। केरल के गृह मंत्री रमेश चेन्निथला ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं। फोरेंसिक विशेषज्ञों की टीम ने हवाई अड्डा का दौरा भी किया है।

मलप्पुरम के पुलिस अधीक्षक देबेश कुमार बेहरा ने बताया कि 15 लोगों के खिलाफ धारा 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज कर अग्निशमन विभाग के 10 कर्मचारियों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस सीसीटीवी फुटेज की जांच कर चुकी है। उनके मुताबिक हवाई अड्डे पर माहौल सामान्य है। वहां भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि जवान की मौत के बाद सीआइएसएफ के जवान लाठी लेकर सबको खदेड़ने लगे थे। इन्होंने बताया कि सीआइएसफ और अग्निशमन विभाग ने अपने-अपने वाहनों से रनवे का मार्ग अवरुद्ध कर दिया था। हालांकि, पुलिस ने इस बाबत कोई जानकारी साझा नहीं की।

जवान से ही छीनी थी पिस्टल

बुधवार रात 9.40 बजे हवाई अड्डे के गेट पर सब-इंस्पेक्टर एसआर चौधरी और हेड कांस्टेबल एसएस यादव तैनात थे। प्रवक्ता हेमेंद्र सिंह के मुताबिक एएआइ अग्निशमन विभाग का एक कर्मचारी जांच में जवानों का सहयोग नहीं कर रहे थे। दोनों पक्षों के बीच गरमा-गरमी हो गई।

इतने में एएआइ कर्मी ने अपने तकरीबन 15 अन्य सहयोगियों को बुला लिया। झड़प में अग्निशमन विभाग के कर्मचारी ने चौधरी की पिस्टल छीन ली और गोली चला दी जो यादव के सिर में जाकर लगी। उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया था।

Posted By: manoj yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस