नई दिल्ली, प्रेट्र। राफेल विमानों की खरीद के मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद वायुसेना के पूर्व प्रमुख बीएस धनोआ ने कहा है कि यह विवाद राजनीतिक फायदे के लिए खड़ा किया गया, जिससे कुल मिलाकर सैन्य आधुनिकीकरण की प्रक्रिया पर असर पड़ा। धनोआ के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सरकार के रुख पर मुहर लगी है।

राफेल सौदे का लगातार समर्थन करने वाले धनोआ ने कहा कि उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला हमारी सैन्य खरीद पर सकारात्मक असर डालेगा। धनोआ का बयान इसलिए अहम है, क्योंकि उन्हीं के कार्यकाल के समय यह विवाद राजनीतिक रूप से तेज हुआ था। फैसले का स्वागत करते हुए धनोआ ने कहा कि उन्होंने सौदे का मेरिट के आधार पर बचाव किया था, क्योंकि वायुसेना को इन विमानों की सख्त जरूरत थी।

वायुसेना में लगभग चार दशक बिताने के बाद धनोआ सितंबर में सेवानिवृत्त हो गए थे। उन्होंने हमेशा यही कहा कि सौदा पूरी तरह पाक-साफ है। उनका कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला सैन्य बलों के लिए अच्छा है। सौदे के तहत विमानों की कीमत को लेकर वायुसेना की समिति ने शानदार काम किया।

इस बीच, रक्षा मंत्रालय ने भी फैसले का स्वागत किया है। मंत्रालय ने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट ने सिलसिलेवार तरीके से पुनर्विचार याचिकाओं को खारिज कर दिया, जिससे रक्षा खरीद प्रक्रियाओं पर निशाना साधने और संदेह पैदा करने की कोशिशों का अंत होगा। ऐसी कोशिशों से सुरक्षाबलों के मनोबल पर नकारात्मक असर पड़ता है।'

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप