नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। सट्टेबाज संजीव चावला को भारत वापस लाने में दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने मैच फिक्सिंग के आरोपी संजीव चावला को 12 दिन की हिरासत में भेजा है। क्रिकेटर हैंसी क्रोनिए से जुड़े कथित मैच फिक्सिंग मामले में सट्टेबाज संजीव चावला को दिल्ली पुलिस भारत वापस लाने में सफल रही थी।

भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक संजीव को कई कानूनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद प्रत्यर्पण कर भारत लाया गया है। बताया गया दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के डीसीपी राम गोपाल नाइक की टीम जो इस मामले की जांच कर रही है वो गुरुवार सुबह करीब 10:30 बजे संजीव को लेकर दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पहुंची। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि संजीव सामान्य अपराधी नहीं है। एक विशेष संधि के तहत उसे लंदन से भारत प्रत्यर्पित किया जा रहा है।

2000 में खेले गए मैच को फिक्स करने का है मामला

दरअसल वर्ष 2000 में 16 फरवरी और 20 मार्च को खेले गए भारत-दक्षिण अफ्रीका के मैच फिक्स करने के लिए दिल्ली पुलिस ने साउथ अफ्रीका टीम के कैप्टन रह चुके दिवंगत हैंसी क्रोनिए और पांच अन्य के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी। साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी हर्शल गिब्स और निकी बोए के फिक्सिंग से जुड़े होने के पर्याप्त सबूत न मिलने पर उनका नाम चार्जशीट से हटा दिया गया था। इस संबंध में 2013 में दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट दायर की थी।

इसमें हैंसी क्रोनिए, सट्टेबाज संजीव चावला, मनमोहन खट्टर, दिल्ली के राजेश कालरा और सुनील दारा सहित टी सीरीज के मालिक के भाई कृष्ण कुमार को आरोपित बनाया गया था। इसके बाद से पुलिस संजीव को भारत लाने का प्रयास कर रही थी। हालांकि मानवाधिकारों का हवाला देकर आरोपित ने यूरोपियन कोर्ट में प्रत्यर्पण के खिलाफ गत 23 जनवरी को अर्जी लगाई थी, जिसे कोर्ट ने नामंजूर कर दिया था। वहीं, अब संजीव को भारत लाया जा चुका है तो उम्मीद लगाई जा रही है कि इस गिरफ्तारी से मैच फिक्सिंग की दुनिया के कई और बड़े राज खुल सकते हैं।

2000 Cricket Fixing : कौन है सट्टेबाज संजीव चावला? जो खोलेगा क्रिकेट में फिक्सिंग के गहरे राज

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस