Move to Jagran APP

BJP vs Congress Manifesto 2024: किसानों को कौन क्‍या दे रहा, घोषणा पत्र में किए ये बड़े वादे; देखि‍ए अंतर और समानताएं

भाजपा ने अपने दिल्‍ली स्थित हेड क्‍वार्टर से लोकसभा चुनाव को लेकर घोषणा पत्र जारी कर दिया है। भाजपा ने इसके लिए बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती का दिन चुना। इससे पहले कांग्रेस अपना घोषणा पत्र जारी कर चुकी है। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र को न्‍याय पत्र नाम दिया है। दोनों ही पार्टियों ने किसानों के लिए बड़ी-बड़ी घोषणाएं की हैं।

By Prateek Jain Edited By: Prateek Jain Published: Sun, 14 Apr 2024 04:20 PM (IST)Updated: Sun, 14 Apr 2024 04:20 PM (IST)
पीएम नरेंद्र मोदी (बाएं) और कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी (दाएं)। फाइल फोटो

डिजि‍टल डेस्‍क, नई दिल्‍ली। BJP Manifesto for farmers: भाजपा ने अपने दिल्‍ली स्थित हेड क्‍वार्टर से लोकसभा चुनाव को लेकर घोषणा पत्र जारी कर दिया है। भाजपा (BJP) ने इसके लिए बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती का दिन चुना। पार्टी ने इस घोषणा पत्र को 'संकल्‍प पत्र' (Sankalp Patra) नाम दिया है। भाजपा 'मोदी की गारंटी' (Modi Ki Guarantee) के नारे के साथ संकल्‍प पत्र को खास तरीके से विकस‍ित भारत के लिए भविष्‍य के रोडमैप के रूप में पेश कर रही है।

भाजपा के इस कार्यक्रम में पार्टी के शीर्ष नेताओं समेत पार्टी कार्यकर्ता व केंद्र सरकार की योजनाओं के लाभार्थी मौजूद थे। कार्यक्रम की शुरूआत जेपी नड्डा के संबोधन से हुई फिर भाजपा के घोषणा पत्र बनाने वाली समित‍ि के अध्‍यक्ष राजनाथ ने कार्यक्रम को संबोध‍ित किया। इस दौरान इन नेताओं ने अपनी सरकार की 10 साल की उपलब्धियां गिनाई व कार्यशैली के बारे में बताया। 

पीएम ने योजनाओं के लाभ‍ार्थि‍यों को दि‍या संकल्‍प पत्र

पीएम मोदी ने केंद्र की योजनाओं के लाभार्थि‍यों को संकल्‍प पत्र की कॉपी भेंट की। इस दौरान उन्‍होंने करीब 46 मिनट तक भाषण दिया और पूर्व की योजनाओं की सफलता और भारत के उज्‍ज्‍वल भव‍िष्‍य के लिए अपनी कार्ययोजना के बारे में बात की। उन्‍होंने कहा कि 4 जून को परिणाम आने के बाद उनकी सरकार इस पर तेजी से काम करेगी।

यह भी पढ़ें - BJP और कांग्रेस के घोषणापत्र में महिलाओं के लिए क्या है खास, नारी शक्ति के लिए दोनों पार्टियों ने किए ये वादे

संंकल्‍प पत्र में भाजपा ने खेती-किसानी और किसानों की समस्‍याओं पर भी खासा ध्‍यान दिया है। मालूम हो कि पंजाब, हरियाणा और यूपी के कुछ ह‍िस्‍सों से किसान कृषि कानूनों को लेकर पूर्व में सरकार के लिए समस्‍या खड़ी कर चुके हैं। ऐसे में भाजपा भूलकर भी उन्‍हें अनदेखा नहीं सकती। 

पीएम ने किसानों के लिए 'गारंटी' पेश करते हुए कहा कि धरती मां की रक्षा के लिए प्राकृतिक खेती पर बल दि‍या जाएगा। कहा कि देश ने रिवॉल्‍यूशनरी काम किया है और हमे इसमें सफलता मिली है। अब नैनो यूरिया पर जोर दिया जाएगा और किसान समृद्धि केंद्रों का विकास किया जाएगा। पीएम ने भारत को फूड प्रोस‍ेसिंग का हब बनाने और इससे रोजगार के अवसर पैदा होने की बात कही। कहा कि ये ग्रामीण अर्थव्यवस्‍था के नए इंजन बनेंगे।

यह भी पढ़ें - BJP vs Congress Manifesto: हेल्थ की गारंटी बनाम स्वास्थ्य न्याय; मुफ्त इलाज को लेकर दोनों पार्टियों ने किए अलग-अलग वादे

इससे पहले कांग्रेस अपना घोषणा पत्र (Congress Manifesto) जारी कर चुकी है। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र को 'न्‍याय पत्र' नाम दिया है। इसमें उन्‍होंने किसानों के लिए 'किसान न्‍याय' की बात कही है। पढें भाजपा और कांग्रेस के घोषणा पत्र में क्‍या-क्‍या है...

क्रमांक योजना क्षेत्र किसानों को 'मोदी की गारंटी'   कांग्रेस का 'किसान न्याय'
1 सीधी आर्थिक मदद

PM किसान सम्‍मान निधि‍ के तहत 6 हजार रुपये सालाना मिलते रहेंगे।

कांग्रेस ने ऐसा कोई वादा नहीं किया।
2 फसल बीमा
  • फसल बीमा के लिए मॉडर्न तकनीक का इस्‍तेमाल।
  • मामलों का समय से निबटान करेंगे।
  • किसान से बीमा राशि के अनुसार प्रीमियम लिया जाएगा और सभी फसल बीमा को खेत और किसान के अनुरूप बनाया जाएगा।
  • दावों का निपटान 30 दिनों के भीतर किया जाएगा।
3 कृषि‍ उपज के लिए बाजार
  • भारत को न्‍यूट्री हब बनाएंगे।
  • श्रीअन्‍न सुपरफूड को वर्ल्डवाइड पहुंंचाएंगे।
  • मिलेट्स (श्रीअन्‍न) की उपज को बढ़ावा देंगे, छोटे किसानों को प्राथमिकता।
  • कृषि उपज की बिक्री के लिए तीन रास्ते उपलब्ध कराएंगे।
  • एपीएमसी एक्ट के अंतर्गत विनियमित बाजार।
  • ई-बाजार का संचालन एक स्वायत्तनिकाय करेगा
  • किसान के लिए डिजिटल बही-खाते पर बिक्री-खरीद समझौते की छूट, कहीं भी फसल बेचने की आजादी।
  • बड़े गांवों और छोटे शहरों में किसानों के लिए खुदरा बाजार स्थापित करेगी।
  • कृषि उत्‍पादाें के आयात-निर्यात पर ठोस नीति लाएंगे, यह एफपीओ का समर्थन करेगी, जि‍ससे किसानों की आय बढ़ेगी।
4 कृषि इंफ्रास्‍ट्रक्चर
  • कस्‍टम हायरि‍ंग केंद्र दोगुना करेंगे। अभी इनकी संख्‍या 25 हजार हैं, इसमें - ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए ट्यूबवेलों से जुड़े सौर पैनल स्थापित करने के लिए एक प्रमुख कार्यक्रम शुरू करेगी।
  • कृषि‍ मशीनरी और उपकरण बनाने पर ध्‍यान केंद्रि‍त किया जाएगा।
  • कृषि‍ वि‍ज्ञान केंद्र (केवीके) का वि‍स्‍तार करेंगे।
  • केवीके में किसानों को डि‍जि‍टल समाधान म‍िलेगा।
  • अब केवीके कौशल विकास केंद्र के वन स्‍टॉप सेंटर के रूप में स्‍थाप‍ित किया जाएगा।
  • पीएम कि‍सान समृद्धि का वि‍स्‍तार।
  • यहां सभी कृषि‍ इनपुट और सेवाएं प्रदान की जाएंगी इनका विस्‍तार होगा।
  • सि‍ंचाई सुवि‍धाओं का वि‍स्‍तार करेंगे।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में अनाज भंडारण सुवि‍धाओं का नेटवर्क बढ़ाएंगे।
  • कृषि सैटेलाइट- कीटनाशक के प्रयोग, स‍िंचाई, सॉइल हेल्‍थ, मौसम पूर्वानुमान जैसी कृषि‍ संबंधी गतिवि‍धि‍यों के लि‍ए एक देशी भारत कृषि सैटेलाइट लॉन्‍च करेंगे।
  • कृषि विज्ञान केंद्र बढ़ाएंगे, प्रत्‍येक केंद्र पर वै‍ज्ञानिकों की बढ़ाएंगे।
  • प्रत्येक जिले में एक कृषि महाविद्यालय और एक पशु चिकित्सा महाविद्यालय बनाएंगे।
5 भूमि सुधार व खेती में लागत घटाने के लिए
  • उच्‍च उत्‍पादक बीज सुनि‍श्चित करेंगे।
  • नैनो यूरिया को बढ़ावा देंगे।

कांग्रेस कृषि में अनुसंधान एवं विकास के लिए वित्त पोषण को पांच वर्षों में दोगुना करेगी।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.