नई दिल्ली,राज्य ब्यूरो । केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को डीडीसीए मामले की जांच में क्लीनचिट दिए जाने के भाजपा के दावे को आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने खारिज करते हुए दोतरफा हमला बोला है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि भाजपा माफी के लिए उनसे भीख मांग रही है, जबकि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सवाल किया कि इतनी जल्दबाजी क्यों है। अभी तो जांच शुरू हुई है फिर क्लीन चिट कैसी। दिल्ली सरकार ने सोमवार को भाजपा के उन बयानों को खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि दिल्ली सरकार की ओर से कराई गई जांच में वित्त मंत्री अरुण जेटली को क्लीन चिट दे दी गई है। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि समिति का गठन डीडीसीए में कथित अनियमितता की जांच करने के लिए किया गया था, जिसके जेटली अध्यक्ष रहे थे। केजरीवाल ने कहा कि भाजपा माफी के लिए भीख मांग रही है। लेकिन जेटली को निशाना बनाने के लिए वह माफी नहीं मांगेंगे, क्योंकि उन्हें कोई क्लीन चिट नहीं दी गई है।

अभी तो जांच शुरू हुई है

उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि रविवार से माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है कि जेटली को क्लीन चिट मिल गई, जबकि हकीकत में ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि जांच तो अभी शुरू हुई है फिर क्लीन चिट कैसी? डीडीसीए में हर तरफ घोटाला है। अरुण जेटली 13 साल तक डीडीसीए के अध्यक्ष रहे हैं। उन्हें तो आगे आकर जांच में सहयोग करना चाहिए। मगर जेटली जी जांच से भाग रहे हैं। इसी से सवाल खड़े हो रहे हैं कि उन्हें डर किस बात का है।

जिस दौरान भ्रष्टाचार हुआ, जेटली थे अध्यक्ष

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में हमने जेटली का नाम इसलिए लिया, क्योंकि जिस दौरान भ्रष्टाचार हुआ, वह डीडीसीए के अध्यक्ष थे। दिल्ली सरकार की जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि भ्रष्टाचार हुआ और जांच आयोग बनाया जाए, हमने बना दिया। उन्होंने कहा कि गोपाल सुब्रह्मण्यम आयोग ने तो अभी काम शुरू किया है। जिस रिपोर्ट का हवाला दिया जा रहा है वह तो हमारी ही 17 नवंबर की रिपोर्ट है और तभी से जनता के बीच है। उस रिपोर्ट में डीडीसीए में बहुत बड़े भ्रष्टाचार की बात कही गई है।

पूछे चार सवाल

-आप 1999 से 2013 तक डीडीसीए के अध्यक्ष थे या नहीं

-भाजपा और आप (जेटली) जांच से क्यों भाग रहे हैं

- 16 हजार रुपये प्रति दिन लैपटॉप किराए पर लिये, क्या वह घोटाला नहीं था

- स्टेडियम बनाने में घपला हुआ या नहीं

Posted By: Sachin Bajpai

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस