भोपाल, जेएनएन। भोपाल के नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी (NLIU के विद्यार्थियों ने प्रोजेक्ट 'सारथी' शुरू किया है। विधिक सहायता केंद्र के साथ मिलकर शुरू किए गए इस प्रोजेक्ट का मकसद जरूरतमंद लोगों को मुफ्त में विधिक सहायता उपलब्ध कराना है। इसके लिए एनएलआइयू के विद्यार्थियों ने बाकायदा कार्यकारिणी का गठन किया है। यह कार्यकारिणी विधिक सहायता उपलब्ध कराने का काम करेगी। इसके लिए विद्यार्थियों ने हेल्पलाइन भी शुरू कर दी है। जरूरतमंद लोग इस हेल्पलाइन के जरिए भी विधिक सहायता ले सकेंगे।

विद्यार्थी जरूरतमंद का संपर्क योग्य अधिवक्ताओं से भी कराएंगे जिससे उन्हें अच्छी विधिक सहायता मिल सकेगी। विद्यार्थियों ने इसके लिए 30 अधिवक्ताओं का पैनल तैयार किया है। इनमें सुप्रीम कोर्ट से लेकर हाईकोर्ट और जिला कोर्ट तक के अधिवक्ता शामिल हैं।

एनएलआइयू के विद्यार्थियों ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

एनएलआइयू के विद्यार्थियों ने हेल्पलाइन का नंबर 6264877355 जारी किया है। इस नंबर पर कोई भी सोमवार से शनिवार के बीच सुबह 11 से शाम 6 बजे तक फोन कर सकेगा। विद्यार्थियों ने विधिक सलाह को तीन चरणों में बांटा है। पहले चरण में घरेलू हिंसा को रखा गया है। इसमें ऐसे लोगों को सलाह दी जाती है जिनके बीच आपस में ही घर में विवाद हो रहे हैं। इन्हें सलाह के साथ समझाइश भी दी जाती है। इसी तरह दूसरे चरण में मध्यस्थता की जाती है। कोई भी जरूरतमंद जब हेल्पलाइन में संपर्क करता है तो उसका पूरा मामला लिखा जाता है। फिर छात्र उस मामले पर आपस में चर्चा करते हैं। फिर मामला जिस अधिवक्ता से संबंधित होता है उसे भेज दिया जाता है। 48 घंटे के भीतर जरूरतमंद को सलाह उपलब्ध करा दी जाती है। इसी तरह मानसिक रूप से परेशान लोगों को सलाह भी दी जा रही है। इसके लिए केंद्र सरकार के सामाजिक न्याय विभाग के जरिए काउंसलरों की सूची तैयार की गई है। यह भी पूरी तरह से मुफ्त कॉउंसिलिंग करते हैं। 

समन्वयक प्रोजेक्ट सारथी प्राजंल अग्रवाल ने बताया कि जरूरतमंदों को खासकर गरीब वर्ग के लोगों को मुफ्त विधिक सलाह देने के लिए प्रोजेक्ट सारथी शुरू किया गया है। आर्थिक जरूरत होने पर एनएलआइयू मदद करता है। कुछ मामलों में छात्र भी अपने स्तर पर रपये एकत्रित कर लेते हैं।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस