नई दिल्‍ली (जेएनएन)। जब पूर्व अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा और उनकी पत्‍नी मिशेल अपनी छुट्टियों से लौटे तब उनका इंतजार एक स्‍पेशल पत्र कर रहा था जिसे भारतीय मूल की अमेरिकी महिला ने लिखा था। इस पत्र को पढ़ने के बाद ओबामा दंपत्‍ति चाहते हैं कि इसे सबके सामने रखा जाए।


अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर मीडियम.कॉम पर पत्र को शेयर करते हुए ओबामा ने लिखा, ‘जब मिशेल और मैं छुट्टियों से वापस आए तब सिंधु नाम की एक महिला का पत्र हमारा इंतजार कर रहा था... इसलिए मैं चाहता हूं कि आज सबके सामने इसे रखूं।‘


सिंधू के इस पत्र का सब्‍जेक्‍ट लाइन- ‘I'm in’ है। सिंधू ने इस पत्र के शुरुआत में 1996 के एक दिन को याद किया है जिसने उसकी जिंदगी को बदल दिया। उस वक्‍त सिंधू यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में नई थी।


सिंधू ने बताया, ‘1996 में एक दिन चर्च में बैठी 17 वर्षीय भारतीय लड़की उसे उस महिला का नाम याद नहीं जिसने उसे बताया था। लेकिन वह उसे कभी नहीं भूलेगी जो उसकी जिंदगी में बदलाव कर गयी और दूसरों के लिए जिंदगी का उपयोग करना सीखा गयी।‘


वह महिला थी मिशेल ओबामा जो अपने पति के सक्रिय राजनीति में प्रवेश से एक साल पहले ही आ गयी।

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस सबसे पहली बार 1909 में मनाया गया था। संयुक्त राष्ट्र संघ ने 1975 से मनाना शुरू किया। इसे मनाने का मकसद दुनिया के तमाम देशों में महिलाओं के प्रति सम्मान, प्रशंसा और प्यार प्रकट करना होता है। इस दिन महिलाओं के राजनीतिक,आर्थिक और सामाजिक उपलब्धियों के तौर पर मनाते हैं।

यह भी पढ़ें- नए यात्रा प्रतिबंध से अमेरिका सुरक्षित नहीं होगा

यह भी पढ़ें- हिंदुत्व के नकारात्मक चित्रण का भारतीयों ने किया विरोध

Posted By: Abhishek Pratap Singh

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस