Move to Jagran APP

Manipur: सर्च अभियान में असम राइफल्स को मिली सफलता, हिंसा प्रभावित मणिपुर से हथियार और विस्फोटक किए बरामद

Manipur Violenceअसम राइफल्स और कोहिमा पुलिस ने नागालैंड के कोहिमा शहर में एक संयुक्त विशेष अभियान में तस्करी के प्रयास को विफल कर दिया और संघर्षग्रस्त मणिपुर की ओर जा रहे भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया। मंगलवार को डिफेंस पीआरओ की एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई। पीआरओ के बयान में कहा गयादो पिस्तौल चार मैगजीन गोला-बारूद विस्फोटक और अन्य युद्ध जैसे सामान बरामद किए गए।

By AgencyEdited By: Babli KumariPublished: Tue, 27 Jun 2023 03:03 PM (IST)Updated: Tue, 27 Jun 2023 03:03 PM (IST)
Manipur: सर्च अभियान में असम राइफल्स को मिली सफलता, हिंसा प्रभावित मणिपुर से हथियार और विस्फोटक किए बरामद
सर्च अभियान में असम राइफल्स को मिली सफलता (प्रतिकात्मक फोटो)

कोहिमा (नागालैंड), एजेंसी। असम राइफल्स और कोहिमा पुलिस ने नागालैंड के कोहिमा शहर में एक संयुक्त विशेष अभियान में तस्करी के प्रयास को विफल कर दिया और संघर्षग्रस्त मणिपुर की ओर जा रहे भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया। मंगलवार को डिफेंस पीआरओ की एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई।

loksabha election banner

बरामद वस्तुओं में दो पिस्तौल और अन्य गोला-बारूद शामिल हैं। पीआरओ के बयान में कहा गया, "दो पिस्तौल, चार मैगजीन, गोला-बारूद, विस्फोटक और अन्य युद्ध जैसे सामान बरामद किए गए।"

पीआरओ के बयान में कहा गया है कि सुरक्षा बलों को सूचना मिली थी कि बदमाश नागालैंड के रास्ते संघर्षग्रस्त मणिपुर में हथियारों की तस्करी करने का प्रयास कर रहे थे। गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए, 26 जून को सुबह 2 बजे असम राइफल्स और कोहिमा पुलिस द्वारा एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया।

असम राइफल्स ने किया तेरह हजार से अधिक गोला-बारूद बरामद 

बयान में आगे कहा गया, "असम राइफल्स ने एक यात्री वाहन को देखा और उसे निगरानी में रखा। सुबह 6 बजे टीमों ने संयुक्त रूप से वाहन की तलाशी ली।"

मणिपुर पुलिस के एक बयान में सोमवार को कहा गया, "अब तक कुल 1100 हथियार, 13,702 गोला-बारूद और विभिन्न प्रकार के 250 बम बरामद किए गए हैं। राज्य के विभिन्न हिस्सों में फ्लैग मार्च, क्षेत्र प्रभुत्व, घेराबंदी और तलाशी अभियान जारी है।" 

हिंसा में अबतक 100 लोगों की मौत 

मणिपुर 52 दिनों से अधिक समय से जातीय हिंसा की चपेट में है। अधिकारियों के मुताबिक, अब तक 100 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। भाजपा शासित राज्य में शांति बहाल करने के लिए कदम उठाने के लिए रविवार को गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में एक सर्वदलीय बैठक हुई।

मेइती को अनुसूचित जनजाति (एसटी) की सूची में शामिल करने की मांग के विरोध में ऑल ट्राइबल्स स्टूडेंट्स यूनियन (एटीएसयू) द्वारा आयोजित एक रैली के दौरान झड़प के बाद 3 मई को मणिपुर में हिंसा भड़क उठी।मणिपुर पुलिस और केंद्रीय बलों ने राज्य के संवेदनशील इलाकों में गश्त, फ्लैग मार्च और घेराबंदी, तलाशी अभियान चलाया है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.