श्रीनगर, आइएएनएस। उत्तरी कश्मीर के जिला कुपवाड़ा में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार गुलाम कश्मीर में छह लां¨चग पैड पर लगभग 100 आतंकी जमा थे। ये आतंकी कश्मीर में घुसपैठ कर हिंसा फैलाने के लिए मौका तलाश रहे थे, लेकिन शनिवार रात को पाक सेना की गोलाबारी के बाद भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में छह में से चार लांचिंग पैड तबाह हो गए हैं। वहीं, कई घुसपैठिये मारे गए और जो जिंदा बचे वे निकटवर्ती बस्तियों में भाग गए।

गौरतलब है कि शनिवार रात को पाकिस्तानी सेना ने उत्तरी कश्मीर में जिला कुपवाड़ा के अंतर्गत टंगडार सेक्टर में आतंकियों के एक दल को भारतीय इलाके में घुसपैठ कराने का प्रयास किया था। भारतीय जवानों ने पाकिस्तानी सेना ने भारतीय नागरिक बस्तियों और सैन्य ठिकानों पर गोलाबारी शुरू कर दी। पाकिस्तान सेना की गोलाबारी का जवाब देते हुए दो सैन्यकर्मी शहीद हो गए और एक ग्रामीण भी मारा गया। इसके बाद भारतीय सेना ने उन जगहों को निशाना बनाया जहां से पाकिस्तानी सेना गोलाबारी कर रही थी। भारतीय सेना ने टंगडार सेक्टर के सामने गुलाम कश्मीर में जोरा, एथमुकाम और कुंडलशाही में बने लांचिग पैड पर भी गोलाबारी की। संबंधित सैन्य सूत्रों की मानें तो इन लांचिंग पैड पर 100 आतंकी जमा थे।

भारतीय कार्रवाई से उनका घुसपैठ का इरादा नाकाम हो गया है। वहां छह लांचिग पैड थे, इनमें से चार तबाह हो चुके हैं। रविवार को थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने भी कहा था कि भारतीय सेना की कार्रवाई में छह से 10 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए हैं और चार आतंकी कैंप तबाह हुए है। टंगडार के अलावा केरन, मच्छल और नौगाम सेक्टर में आतंकी लांचिंग पैड पर मौजूद हैं।

सैन्य सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सेना गुलाम कश्मीर में जारी आतंकी और पाकिस्तानी सेना की गतिविधियों पर लगातार नजर रखे हुए है। पाकिस्तानी सेना ने एलओसी से सटे इलाकों में आतंकियों की गतिविधि बढ़ा दी है। पाकिस्तानी सेना का मकसद है कि बर्फबारी से पहले 100 आतंकियों को किसी तरह से कश्मीर में दाखिल कराते हुए बड़े पैमाने पर हिंसा फैलाई जा सके।

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप