नई दिल्ली, प्रेट्र। लद्दाख में चीन के साथ चल रही तनातनी के बीच केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने शनिवार को कहा कि भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आइटीबीपी) ने बीते कुछ महीनों के दौरान कुछ देशों का यह भ्रम तोड़ दिया कि उनके पास शक्तिशाली सेना है। रेड्डी आइटीबीपी के 59वें स्थापना दिवस के मौके पर बल के कíमयों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन कहा कि भारत वसुधैव कुटुंबकम (धरती ही परिवार है) के दर्शन पर विश्वास रखता है। देश की संस्कृति हमें शास्त्र और अस्त्र दोनों की पूजा करना सिखाती है।

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री ने आइटीबीपी के स्थापना दिवस पर की बल की सराहना

रेड्डी ने कहा कि यह हमें सिखाती है कि शत्रु कभी भी और कहीं भी अपना सिर उठा सकता है। इसलिए हमें किसी भी अंदेशे का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए। आइटीबीपी देश की उस तैयारी का एक अहम स्तंभ है। उन्होंने कहा कि कुछ देशों की सेनाओं को यह भ्रम था कि वे विश्व की शक्तिशाली सेनाओं में शामिल हैं। लेकिन, पिछले कुछ महीनों के घटनाक्रम के दौरान आइटीबीपी ने यह भ्रम तोड़ दिया है।मंत्री ने कहा कि देश और इसके नागरिकों को आइटीबीपी की वीरता और समर्पण पर गर्व है। आइटीबीपी भारत-चीन के बीच 3,488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) की रखवाली करने वाला विशिष्ट बल है। 

कहा, आंतरिक सुरक्षा के साथ देश के आíथक हितों की भी रक्षा कर रहे जवान

बता दें कि आइटीबीपी ने कुछ समय पहले कहा था कि 15-16 जून को भारत और चीन के बीच हिंसक संघर्ष के दौरान उसने पूरी रात लड़ाई लड़ी थी और चीन के सैनिकों को मुंहतोड़ जवाब दिया। रेड्डी ने कहा कि बल सिर्फ सरहदों और देश की आंतरिक सुरक्षा की रखवाली नहीं कर रहा है, बल्कि देश के आíथक हितों की भी रक्षा कर रहा है। उन्होंने कहा, हमारा देश शत्रुतापूर्ण पड़ोसियों से घिरा हुआ है। हमारे दुश्मन बार-बार हमारा आíथक विकास रोकने के लिए अड़ंगा लगाते हैं। जब आप दुश्मनों की इस योजना को पराजित करते हैं, तो आप देश का आíथक विकास सुनिश्चित करते हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस