विशाखापत्तनम, एएनआइ। भारत में कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के मामले सामने आने के बाद आंध्र प्रदेश से चिंता बढ़ा देने वाली खबर सामने आई है। यहां विदेश से आए कुछ लोग गायब हो गए हैं। उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है। विशाखापत्तनम के जिला कलेक्टर मल्लिकार्जुन ने शुक्रवार को कहा कि विदेश से आने के बाद बेंगलुरू, चेन्नई या हैदराबाद से विशाखापत्तनम आए कुछ लोगों का पता नहीं चल पा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रशासन को विदेश से आए लोगों की एक सूची मिली है, जो बेंगलुरू, चेन्नई या हैदराबाद से विशाखापत्तनम आए हैं। उन्होंने कहा कि उनमें से कुछ का पता लगा लिया गया है, जबकि कुछ का पता नहीं चल पाया है।

जिला कलेक्टर ने कहा कि प्रोटोकाल बहुत स्पष्ट है। एक बार जब कोई अंतरराष्ट्रीय यात्री कोरोना पाजिटिव पाया जाता है, तो रोकथाम और उपचार के नियमित प्रोटोकाल का पालन करने के अलावा, हम उनके सैंपल का जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेज रहे हैं। जिला कलेक्टर ने यह भी कहा कि आने वाले समय में कोविड-19 के कारण किसी भी तरह की स्थिति उत्पन्न होने से निपटने लिए प्रशासन तैयार है। हमने यात्रियों के लिए विशाखापत्तनम हवाई अड्डे पर एक आरटी-पीसीआर टेस्ट की सुविधा स्थापित की है। जिले में लगभग 7,500 बिस्तर उपलब्ध हैं, जिनमें आक्सीजन बेड भी शामिल हैं।

कर्नाटक में दो लोग ओमिक्रोन से संक्रमित मिले

बता दें कि केंद्र सरकार ने गुरुवार को जानकारी दी कि कर्नाटक में दो लोग कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन से संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से एक विदेश से आया 60 साल का व्यक्ति, जबकि दूसरा 46 साल का स्थानिय डाक्टर है। पहले व्यक्ति संक्रमण से उबर गया है, जबकि दूसरा आइसोलेट है। इसके संपर्क में आए पांच और लोग संक्रमित पाए गए हैं।उनका भी सैंपल जिनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेज दिया गया है। कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर पहली बार 25 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को जानकारी दी थी। 

Edited By: Tanisk