मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली। वैसे तो आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन साल 2013 में इसके इंडियन हेड यासीन भटकल की गिरफ्तारी के बाद दो भागों में टूट गया था। लेकिन, इंडियन मुजाहिदीन से इसके सदस्यों के भागने के पीछे इंडियन मुजाहिदीन के बॉस रियाज भटकल और इक़बाल भटकल में से इक़बाल का गुस्सैल रवैया होना बताया जा रहा है। इकबाल उन गुर्गों को खुलेआम धमकाता था जो आत्मघाती हमले को अंजाम देने से मना करता था।

टाइम्स ऑफ इंडिया की ख़बर के अनुसार, इंडियन मुजाहिदन से टूटने के बाद दूसरा धरे ने एक अलग संगठन बनाने का फैसला किया और अंसार-उत तौहीद फिबिलाद अल-हिंद(AuT) बनाया। अब ये संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईस) से मिल चुका है और ज्यादातर सीनियर इंडियन मुजाहिदीन के वो गुर्गे जो रियाज-इकबाल भटकल से टूटकर अलग हुए थे वे सभी अब आईएस के क्षेत्र में लड़ रहे हैं।

ये भी पढ़ें- ISI और IM की मदद से पठानकोट-2 हमले की साजिश रच रहा है जैश

ये ताज़ा खुलासा इंडियन मुजाहिदीन के लिए फंडिंग का काम देखनेवाले वाहिद सिद्दिबापा जिसने भारत में 2011 से 2013 के दौरान हुए विस्फोट के लिए पैसे भेजे थे उसने यह दावा किया है। उसका कहना है कि पाकिस्तान इक़बाल भटकल अपने गुर्गों को धमकाता था कि अगर वो आदेश का पालन नहीं करेगा या फिर जेहाद के रास्ते से भटकेगा तो उसे गोली मार दी जाएगी।

सिद्दिबापा जिसे पिछले महीने संयुक्त अरब अमीरात से प्रत्यर्पण कर लाया गया है उसने जांच एजेंसी को बताया कि अगर कोई सदस्य इंडियन मुजाहिदिन से एक बार जुड़ने के बाद उसे छोड़कर दूसरे संगठन में जुड़ने या उस ग्रुप छोड़ने का दुस्साहस करता ता तो उसे इकबाल जान से मारने की धमकी देता था। भटकल, रियाज और इक़बाल से संबंध रखनेवाले सिद्दिबप्पा ने कहा कि “इकबाल एक गुंडा और काफी गुस्सा शख्स था।”

ये भी पढ़ें- भारत में आतंकियों के लिए फंडिंग करता था मुजाहिद्दीन का ‘सिद्दीबापा’

सिद्दिबापा ने यह भी दावा किया कि इंडियन मुजाहिदीन के एक अन्य सदस्य अफीफ जिलानी का रियाज, इक़बाल के साथ जमकर लड़ाई हुई क्योंकि अफीफ ने पाकिस्तान में शादी कर ली थी। जिसके बाद अफीफ जिलानी को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया था।


यासिन भटकल समेत इंडियन मुजाहिदिन के कई सदस्यों से पीछे जब पूछताछ की गई तो पता चला कि रियाज भटकल और इक़बाल भटकल बाद में स्वार्थी हो गया था। ऐसी भी खबर थी कि भारत में ऑपरेशन के लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से जो 26 करोड़ रूपये मिले थे उसे इक़बाल और उसके भाई ने ही खर्च किए। लेकिन, वो सारा पैसा इकबाल ने अपनी फजूलखर्ची और पाकिस्तान में रह रही अपनी पत्नी पर खर्च कर दिए। अधिकारियों के मुताबिक, इंडियन मुजाहिदीन के कई गुर्गे अपने इस पाकिस्तानी बॉस से खुश नहीं थे।

Posted By: Rajesh Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप