जागरण संवाददाता, जयपुर। वायुसेना का एक और फाइटर प्लेन मिग-27 मंगलवार शाम जैसलमेर जिले के रामदेवरा और एक गांव के बीच खेतोलाई इलाके में क्रैश हो गया। मिग उड़ा रहा पायलट सुरक्षित है। दुर्घटना के कारणों की जांच कोर्ट ऑफ इंक्वॉयरी करेगी। घटना की जानकारी मिलते ही वायुसेना और पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचे।

प्रारंभिक जानकारी के अनुसार तकनीकी खराबी के कारण मिग क्रैश हुआ है। अधिकारियों ने इस बारे में अधिक जानकारी देने से इंकार कर दिया । इससे पहले भी मिग-27 क्रैश होने की घटनाएं हो चुकी है । उधर, 16 फरवरी को पोखरण रेंज में भारतीय वायुसेना एक बड़ा अभ्यास "वायुशक्ति" करेगी । इसमें 130 से ज्यादा फाइटर, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट और हेलीकॉप्टर हिस्सा लेंगे। इसमें स्वदेशी हथियारों की ताकत भी दुनिया के सामने होगी ।

वायुशक्ति में वायुसेना की दिन, शाम और रात में युद्ध करने की क्षमता को जांचा भी जाएगा । शाम 5.30 से शुरू होकर ये अभ्यास ढ़ाई घंटे तक चलेगा। इसमें सुखोई-30, मिग-29, मिराज-2000, जगुआर, मिग-27 जैसे फ्रंट लाइन फाइटर एयरक्राफ्ट के साथ-साथ स्वदेशी तेजस और एडवांस लाइट हेलीकॉप्टर रुद्र भी हिस्सा लेंगे ।

अभ्यास में स्वदेशी मिसाइल डिफेंस सिस्टम आकाश और हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल अस्त्र की फायरिंग आकर्षण का केंद्र होगी । वायुसेना अपनी हमला करने वाली ताकत का परीक्षण हर तीन साल में एक बार करती है । 1954 तक ये प्रदर्शन दिल्ली के पास तिलपत रेंज में होता था, जिसे बाद में पोकरण में किया जाने लगा।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप