अगरतला, एएनआइ। त्रिपुरा (Tripura)  में चुनावी हिंसा मामले में गुरुवार को 98 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इसमें तृणमूल कांग्रेस (TMC), CPM, भारतीय जनता पार्टी (BJP)  के सदस्यों समेत 41 लोग हैं जिन्होंने प्रतिबंधों (Restrictions) का उल्लंघन किया था। यह जानकारी त्रिपुरा के DGP वीएस यादव ( VS Yadav) ने दिया। 

राज्य चुनाव आयोग के अधिकारियों के अनुसार, त्रिपुरा के 14 नगर निकायों के चुनाव में शाम चार बजे तक करीब 4.93 लाख मतदाताओं में से 75.04 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। उन्होंने यह भी कहा कि मतदान वाले क्षेत्रों से किसी भी तरह की गड़बड़ी या वोटिंग मशीन से संबंधित किसी समस्या की सूचना नहीं है।

आज ही त्रिपुरा में नगर निकाय चुनावों के दौरान मतदान केंद्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को सुप्रीम कोर्ट की ओर से तत्काल दो कंपनी अतिरिक्त केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) तैनात करने का आदेश दिया। ये निर्देश जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने तृणमूल कांग्रेस और माकपा की याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान दिए। इन विपक्षी दलों ने अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि मतदान शुरू हो गया है, लेकिन उनके उम्मीदवारों और समर्थकों को मतदान नहीं करने दिया जा रहा।

पीठ ने दलीलें सुनने के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय को निर्देश दिया कि जितनी जल्द हो सके वह दो कंपनी अतिरिक्त सीएपीएफ तैनात करे ताकि मतदान बिना किसी व्यवधान के चालू रहे। मतों की सुरक्षा और निर्बाध मतगणना के लिए भी पर्याप्त संख्या में सीएपीएफ जवान तैनात किए जाएंगे। मतगणना 28 नवंबर को होगी। बता दें कि गुरुवार को राज्य की छह नगर पंचायतों, सात नगर परिषदों और अगरतला नगर निगम की कुल 222 सीटों के लिए मतदान हुआ जिसमें 81.52 प्रतिशत लोगों ने मताधिकार का प्रयोग किया।

Edited By: Monika Minal