पलक्कड़, एजेंसी। केरल के पलक्कड़ जिले के वडक्कनचेरी इलाके में बुधवार देर रात सड़क हादसा हुआ। केरल राज्य सड़क परिवहन निगम (KSRTC) की बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इस बस दुर्घटना में 9 की मौत हुई थी और 38 लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे। इस घटना की जानकारी समाचार एजेंसी एएनआइ ने राज्य मंत्री एमबी राजेश के हवाले से दी थी।

राज्य के परिवहन मंत्री एंटनी राजू ने कहा कि टक्कर मारने वाली बस में 47 लोग सवार थे, जिसमें 42 छात्र और 5 शिक्षक भी शामिल थे। दुर्घटना के समय यह बस 97.2 किमी प्रति घंटे की तेज रफ्तार से चल रही थी, जो कि यातायात के नियमों का उल्लंघन कर रही थी। इस मामले की जांच की जाएगी। यह बस KSRTC की बस से जा भिड़ी जिसमें 51 यात्री सवार थे। 

यह भी पढ़ें- Road Accident in Kerala: केरल के पलक्कड़ जिले में सड़क हादसा, बस दुर्घटना में 9 की मौत और 38 घायल

केरल परिवहन मंत्री एंटनी राजू ने आगे कहा कि प्रारंभिक रिपोर्ट में कहा गया है कि टूरिस्ट बस ने कार को ओवरटेक करते समय केएसआरटीसी बस को पीछे से टक्कर मार दी... हम विस्तृत जांच कर रहे हैं। मैंने सड़क परिवहन आयुक्त को विस्तृत रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है, जिस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

टक्कर लगने के बाद दलदल में गिर गई बस

बुधवार की रात यहां वडक्कनचेरी के पास मंगलम में स्कूली छात्रों को ले जा रही एक पर्यटक बस ने केएसआरटीसी की बस को पीछे से टक्कर मार दी। टक्कर लगने के बाद बस दलदल में गिर गई। इसमें नौ लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। करीब 38 घायलों को इलाज के लिए विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। कई की हालत नाजुक बनी हुई है।

हादसे में इन लोगों की गई जान

मरने वालों में स्कूल शिक्षक विष्णु वीके, छात्र अंजना अजित, इमैनुएल सीएस, दीया राजेश, क्रिस विंटरबॉर्न थॉमस, एल्ना जोस (छात्र), अनूप (22), रोहित राज (24) और दीपू हैं।

बुधवार देर रात हुआ हादसा

यह हादसा बुधवार रात करीब 11:30 बजे राष्ट्रीय राजमार्ग 544 (NH-544) पर हुआ। टूरिस्ट बस एर्नाकुलम के बेसिलियोस विद्यानिकेतन सीनियर सेकेंडरी स्कूल के छात्रों को लेकर ऊटी की ओर जा रही थी। KSRTC की सुपरफास्ट बस कोट्टाराक्कारा से कोयंबटूर जा रही थी। दोनों के टक्कर के चलते यह हादसा हुआ।

देर रात स्थानीय लोग और पुलिस मौके पर पहुंच गए और बचाव कार्य चलाया गया। इस दौरान तेज बारिश हो रही थी। घायलों को पलक्कड़ जिला अस्पताल, अलाथुर तालुक अस्पताल और त्रिशूर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

यह भी पढ़ें- संयुक्त राष्ट्र में भारत ने परोक्ष तौर पर की चीन की मदद, अमेरिका द्वारा लाया गया प्रस्ताव हुआ खारिज

त्रिशूर के निजी अस्पताल में इन लोगों का चल रहा इलाज

त्रिशूर के निजी अस्पताल में हरिकृष्णन (22), अमेया (17), अनन्या (17), श्रद्धा (15), अनीजा (15), अमृता (15), तनुश्री (15), हिन जोसेफ (15), जानेमा (15), अरुण कुमार (38) ), ब्लेसन (18), और एल्सा (18) का इलाज चल रहा है।

Edited By: Versha Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट