हैदराबाद, एएनआइ। आंध्र प्रदेश के तिरुपति में शनिवार को एक 70 साल पुरानी आवासीय इमारत ढह गई।घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है क्योंकि हादसे के समय इमारत में रहने वाले चार परिवार नहीं थे। फिलहाल मौके पर पहुंची पुलिस इस पूरे मामले की छानबीन में जुट गई है। 

स्थानीय लोगों ने अधिकारियों से इमारतों के संरक्षण को सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है जो ढहने के कगार पर हैं। बता दें पुरानी इमारतों के ढहने की यह पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी इस प्रकार की घटना हो चुकी है। देशभर से इस तरह की घटनाए होती रहती हैं। 

अक्सर पुरानी इमारतों की मरम्मत ना कराने पर इस तरहा की घटना होती हैं। ऐसे हादसे बरसात के मौसम में सबसे ज्यादा होते हैं। ऐसे में इन हादसों में  कई लोगों की मौत भी हो जाती है। इससे पहले बरसात के मौसम में कई इमारतों के गिरने से कई लोगों की मौत हुई है। ऐसे में सभी को चाहिए की ऐसी इमारत की जर्जर स्थिति का समय-समय पर देखभाल करनी चाहिए। 

इससे पहले 20 सितंबर 2019 को मुंबई  की क्रॉफर्ड मार्केट में एक इमारत का हिस्सा गिर गया था। इस दौरान कई लोग इस हादसे में फंस गए थे। काफी संख्या में लोगों के इस इमारत से निकाला गया था। 

दिल्ली में भी 3 सितंबर 2019 को इस प्रकार की घटना हुई। सीलमपुर इलाके के पास एक चार मंजिला इमारत गिर गई थी। इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई थी। जबकि कई लोग घायल हो गए थे। बताया जा रहा है कि यह इमारत बारिश की वजह से कमजोर हो गई थी। इस दौरान ये  दीवार गिरी। 

मुंबई के डोंगरी में 16 जुलाई 2019 केसरबाई बिल्डिंग का हिस्सा गिर गया था। इस दौरान काफी लोगों की मौत हुई थी। इस हादसे में अफरा-तफरा भी मच गई थी। यही नहीं इस दौरान काफी लोगों को बचाया भी गया। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस