Move to Jagran APP

देश में 2022 से लेकर अब तक 23 आतंकियों की हुई पहचान, छत्तीसगढ़ में मारे गए 328 नक्सलीः केंद्र सरकार

देश में गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत 23 आतंकियों की पहचान की गई। इन आतंकियों के नाम गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की चौथी अनुसूची में जोड़े गए हैं। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने ये जानकारी दी। File Photo

By AgencyEdited By: Devshanker ChovdharyPublished: Tue, 21 Mar 2023 03:53 PM (IST)Updated: Tue, 21 Mar 2023 03:53 PM (IST)
देश में 2022 से लेकर अब तक 23 आतंकियों की हुई पहचान।

नई दिल्ली, एएनआई। देश में गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत 23 आतंकियों की पहचान की गई है। इन आतंकियों की पहचान वर्ष 2022 से लेकर अब तक इस अधिनियम के तहत की गई है और उनके नाम गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की चौथी अनुसूची में जोड़े गए हैं। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने संसद के बजट सत्र के दौरान लोकसभा में ये जानकारी दी।

इसके अलावा, छत्तीसगढ़ में नक्सली हिंसा में 2018 से 28 फरवरी 2023 तक कुल 175 सुरक्षा बल के जवान शहीद हुए। वहीं, राज्य में 328 नक्सली मारे गए और 345 नागरिकों की जान गई। नित्यानंद राय ने लोकसभा में मंगलवार को ये जानकारी दी।

नक्सली हिंसा में आई कमी

वहीं, नक्सलियों द्वारा की जाने वाली हिंसा में पिछले एक दशक में 77 प्रतिशत की कमी आई है, जबकि सुरक्षा बलों और नागरिकों की मौत में भी 90 प्रतिशत की कमी आई है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि हिंसा का भौगोलिक प्रसार काफी कम हो गया है और 2010 में 96 जिलों के 465 पुलिस थानों की तुलना में 2022 में 45 जिलों के केवल 176 पुलिस स्टेशनों ने वामपंथी उग्रवाद हिंसा की सूचना दी है।

उन्होंने आगे कहा कि वामपंथी उग्रवाद से संबंधित हिंसक घटनाओं की संख्या में 2010 की तुलना में 2022 में 77 प्रतिशत की कमी आई है। उन्होंने कहा कि अप्रैल 2018 में सुरक्षा संबंधी व्यय जिलों की संख्या 126 से घटकर 90 हो गई और जुलाई 2021 में 70 हो गई।

दो साल में दिल्ली में सांसदों के आवास पर हमले की चार घटनाएं

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने मंगलवार को कहा कि नई दिल्ली में पिछले दो साल में जनप्रतिनिधियों के आवास पर हमले के चार मामले सामने आये हैं, जिनमें से 16 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हैदराबाद के सांसद और एआईएमआइएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी के एक सवाल के जवाब में मंत्री ने लोकसभा में यह जानकारी दी।

उन्होंने लिखित जवाब देते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस ने बताया है कि पिछले दो वर्षों (28 फरवरी, 2023 तक) में जनप्रतिनिधियों के आवासों पर हमलों के चार मामले दर्ज किए गए हैं और नई दिल्ली जिले में प्राथमिकी दर्ज की गई है। राय ने कहा कि इन चार मामलों में 16 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और दो मामलों में आरोप पत्र दायर किया गया है।

देश में 2021 तक 4.27 लाख विचाराधीन कैदी

देश भर की जेलों में 31 दिसंबर, 2021 तक 4.27 लाख विचाराधीन कैदी बंद थे, मंगलवार को लोकसभा को केंद्रीय मंत्री ने जानकारी दी। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने कहा कि विचाराधीन कैदियों की संख्या 31 दिसंबर, 2014 को 2,82,879 से बढ़कर 31 दिसंबर, 2021 को 4,27,167 हो गई है। उन्होंने कहा कि 31 दिसंबर, 2021 तक 90,037 अनुसूचित जाति के विचाराधीन कैदी थे, 42,211 विचाराधीन कैदी अनुसूचित जनजाति के थे और 1,51,287 अन्य पिछड़ा वर्ग के थे।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.