मुजफ्फरपुर। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय ने शनिवार को स्नातक सत्र 2022-25 में नामांकन के लिए पहली मेधा सूची जारी कर दी। यह मेधा सूची 90 हजार विद्यार्थियों के लिए जारी की गई है। नामांकन के लिए 16 से 25 अगस्त तक का समय निर्धारित किया गया है। अध्यक्ष छात्र कल्याण डा.अभय कुमार सिंह ने बताया कि विश्वविद्यालय के आधिकारिक वेबसाइट पर मेधा सूची कटआफ और नाम के साथ अपलोड कर दी गई है। इसके साथ ही विद्यार्थियों के ईमेल पर भी आवंटित कालेज की जानकारी दे दी गई है। जिस विद्यार्थी का नाम संबंधित कालेज में आवंटित किया गया है। उन्हें उसमें अनिवार्य रूप से नामांकन लेना होगा। यदि कोई विद्यार्थी आवंटित कालेज में नामांकन नहीं कराते हैं तो उन्हें इस बार दूसरा मौका नहीं दिया जाएगा। विद्यार्थियों ने जिलावार जिस प्रकार कालेजों का विकल्प दिया है उसी अनुसार मेधा सूची बनाई गई है। यूएमआइएस कोआर्डिनेटर प्रो.टीके डे ने बताया कि मेधा सूची जारी करने में सावधानी बरती गई है। आवेदनों की जांच कर अपलोड किए गए अंकपत्र और दर्ज अंक का मिलान कर मेधा सूची प्रकाशित की गई है। प्रीमियर कालेजों में गणित, जूलाजी और भौतिकी, कामर्स व कला में इतिहास, मनोविज्ञान समेत आधा दर्जन विषयों का कटआफ अधिक रहा। प्रतिदिन नामांकन की स्थिति अपडेट करेंगे कालेज डा.टीके डे ने बताया कि सभी कालेजों को नामांकन को लेकर दिशानिर्देश दिए गए हैं। कहा गया है कि नामांकन के समय विद्यार्थियों के प्रमाणपत्रों की जांच, यदि कोटि का विकल्प दिया हो तो उससे संबंधित प्रमाणपत्रों का भौतिक रूप से सत्यापन करना है। यदि विद्यार्थी संबंधित कोटि या कोटा का प्रमाणपत्र उपलब्ध नहीं करा पाते हैं तो उन्हें नामांकन से वंचित होना पड़ेगा। कालेज प्रतिदिन नामांकन लेने के बाद संध्या में उसकी जानकारी विश्वविद्यालय के पोर्टल पर देंगे। इससे विश्वविद्यालय नामांकन की स्थिति की सतत मानीटरिग कर रिक्त सीटों पर दूसरी मेधा सूची जारी करने की रणनीति तैयार करेगा। निर्धारित शुल्क से अधिक लेने पर कालेजों पर होगी कार्रवाई विश्वविद्यालय ने इसबार निर्धारित शुल्क से अधिक राशि लेने वाले कालेजों के खिलाफ कार्रवाई करने की योजना बनाई है। इसके लिए विश्वविद्यालय में नामांकन समिति की ओर से लिए गए निर्णय को लागू कर दिया गया है। स्नातक में कला और वाणिज्य संकाय के लिए तीन हजार रुपये और विज्ञान संकाय के लिए 32 सौ रुपये नामांकन शुल्क निर्धारित किया गया है। एससी-एसटी के विद्यार्थियों और सभी कोटि की छात्राओं से भी नामांकन शुल्क लिया जाएगा। इसके बदले में कालेजों से एक शपथपत्र लिया जाएगा। इसके अनुसार यदि सरकार की ओर से इनके नामांकन का शुल्क दे दिया जाता है तो ऐसी स्थिति में विद्यार्थियों को चेक के माध्यम से राशि लौटाई जाएगी।

Edited By: Jagran