जागरण संवाददाता, बठिंडा। बठिंडा में स्वतंत्रता दिवस को विरोध दिवस के रूप में मनाने वाले कच्चे कर्मचारियों को पुलिस ने हिरासत में लेकर अलग-अलग थानों में बंद कर दिया। कर्मचारी पंजाब सरकार से रेगुलर की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान कर्मचारियों की पुलिस के साथ काफी धक्का-मुक्की भी हुई। जिसके बाद पुलिस ने कर्मचारियों को वैनों बैठा कर थानों में बंद कर दिया।

कच्चे कर्मचारी पहले रोज गार्डन चौक में इकट्ठा हुए थे, जहां पर उन्होंने काले बिल्ले लगाकर व काले चोले पहनकर पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। वह यहां से शहर में रोष मार्च निकालना चाहते थे। मगर 15 अगस्त के चलते शहर में भारी पुलिस फोर्स तैनात की गई। वहीं 15 अगस्त के मद्देनजर पंजाब विधानसभा के स्पीकर कुलतार सिंह संधवा भी पहुंचे हुए थे। इसके चलते पुलिस ने कर्मचारियों के प्रदर्शन को फेल करने के लिए उनको शहर में मार्च नहीं निकालने दिया गया। जिसके विरोध में कर्मचारी ने वहीं पर धरना दिया तो पुलिस ने उनको थानों में बंद कर दिया।

ठेका मुलाजिम संघर्ष यूनियन के गुरविंदर सिंह पन्नू ने बताया कि पंजाब की आप सरकार ने चुनावों से पहले कर्मचारियों के साथ वादा किया था कि उनकी सरकार बनते ही सभी कर्मचारियों को पक्का कर दिया जाएगा। मगर अब उनके साथ ही धोखा दिया जा रहा है। जबकि वह कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की मांग को लेकर लंबे समय से प्रदर्शन कर रहे हैं। जिसकी तरफ आज तक किसी ने ध्यान नहीं दिया। इस कारण आज उनको प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होना पड़ा। लेकिन पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़ें-  Independence Day 2022: पंजाब में स्‍वतंंत्रता दिवस पर समाराहों की धूम , सीएम भगवंत मान ने लु‍धियाना में फहराया तिरंगा

यह भी पढ़ें-  Independence Day 2022 : लुधियाना में सीएम भगवंत मान ने फरहाया तिरंगा, बोले- पंजाब ने झंडे को ऊंचा रखने के लिए दी सबसे ज्यादा कुर्बानियां

Edited By: Vinay Kumar