राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। पंचायती राज संस्थाओं में प्रदेश सरकार द्वारा अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग-ए के लिए वार्ड और पंचायतें आरक्षित किए जाने के बाद राज्य चुनाव आयोग चुनावी तिथियों का शेड्यूल बनाने में जुट गया है। पूरी संभावना है कि राज्य चुनाव आयुक्त धनपत सिंह सोमवार को ग्राम पंचायतों, जिला परिषदों और पंचायत समितियों में चुनाव का शेड्यूल जारी कर सकते हैं।

आरक्षण के लिए सभी जिलों में ड्रा का काम पूरा होने के बाद विकास एवं पंचायत विभाग ने आरक्षित ग्राम पंचायतों और वार्डों की सूची राज्य चुनाव आयोग को सौंप दी है। अब कभी भी चुनावी बिगुल बज सकता है। लिहाजा पंचायत चुनाव के संभावित उम्मीदवार मतदाताओं का रूख भांपने के लिए मैदान में उतर गए हैं। न केवल समर्थकों के साथ बैठकें कर चुनावी रणनीति को अमलीजामा पहनाया जा रहा है, बल्कि दूसरे संभावित उम्मीदवारों को लेकर भी गुणा-भाग शुरू हो गया है।

71 हजार 763 पदों पर होना है चुनाव

प्रदेश में पंचायती राज संस्थाओं के लिए कुल 71 हजार 763 पदों पर चुनाव होना है। इनमें 6226 पद सरपंच, 62 हजार 40 पंच, 143 पंचायत समितियों के 3086 सदस्य और 22 जिला परिषदों के 411 सदस्य शामिल हैं। राज्य चुनाव आयोग की कोशिश चार चरणों में मतदान कराने की है। सभी उपायुक्तों सह जिला निर्वाचन अधिकारियों को

मतदान की तैयारियां पूरी रखने के निर्देश

पहले चरण में पंचायत समिति सदस्यों, दूसरे चरण में जिला परिषद सदस्यों, तीसरे चरण में सरपंच और चौथे चरण में पंच पद के लिए मतदान की तैयारियां पूरी रखने को कहा गया है।

वार्डबंदी और ड्रा की प्रक्रिया पूरी

वहीं, उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि पंचायत चुनाव को लेकर राज्य चुनाव आयोग को पत्र लिखा जा चुका है। वार्डबंदी और ड्रा की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। चुनाव आयोग जब भी चुनावों की घोषणा करेगा, सरकार व प्रशासन पूरी तरह तैयार है। चुनावों को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न करवाने के लिए पूरा सहयोग किया जाएगा।

Edited By: Kamlesh Bhatt

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट