जेएनएन, भिवानी। हरियाणा स्कूल शिक्षा बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में एक चौकीदार के बेटे ने टाॅप किया है। साेमवार को घोषित परीक्षा परिणाम में जींद के कार्तिक ने पूरे राज्‍य में प्रथम स्‍थान हासिल किया है। कार्तिक के पिता पीडब्‍ल्‍यूडी विभाग में चौकीदार हैं। इस बार 51.15 फीसद विद्यार्थी उतीर्ण हुए हैं। इस परीक्षा में भी लड़कियों ने अपना परचम लहराया है। लड़कियों का पास प्रतिशत 55.34 है। लड़कों का पास प्रतिशत 47.61 रहा है।कार्तिक ने कुल 500 अंकों में से 498 अंक प्राप्‍त किया है। उसने पांच में से तीन विषय में सौ फीसद अंक हा‍सिल किए हैं। स्वयंपाठी विद्यार्थियों का परिणाम 66.2 फीसद रहा।

परीक्षा में नवदुर्गा वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय जींद के कार्तिक ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। कार्तिक ने संस्‍कृत, विज्ञान और गणित में 100 फीसद अंक हासिल किए हैं। कार्तिक गरीब परिवार से संबंध रखता है। उसके पिता प्रेम सिंह पीडब्ल्यूडी में चौकीदार हैं। मां शुगर की मरीज थी, जिनका गत वर्ष निधन हो गया था। कार्तिक का कहना है कि गरीबी के बावजूद पिता और परिजनों ने उसकी सुविधा का पूरा ध्‍यान रखा। वह प्रतिदिन सात से आठ पढ़ाई करता था। उसने पढ़ाई टेक्‍स्‍ट बुक से की और गाइड आदि से दूर रहा। वह पढ़ाई पूरी कर आइएफएस अफसर बनना चाहता है।

दूसरे स्थान पर सेलीना यादव (जीवन ज्योति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय), सोनाली (सरस्वती उच्च विद्यालय सिरसा), हरिओम (बाल विद्या निकेतन, पलवल) रहे। तीसरे स्थान पर रिया (एसएमबी गीता वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय अंबाला), प्रीति (पारस वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय महेंद्रगढ़) और जिज्ञासा (टैगोर स्कूल देवी मूर्ति कालोनी) ने हासिल किया। परीक्षा परिणाम बोर्ड की वेबसाइट www.bseh.org.in या www.indiaresults.com पर देखा जा सकता है।

दसवीं के टॉपर।

परीक्षा परिणाम की घोषणा हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने की। उन्होंने परिणामों पर संतोष व्यक्त किया। इस अवसर पर बोर्ड अध्यक्ष डॉक्टर जगबीर सिंह भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार प्रदेश में शिक्षा का स्तर ऊंचा उठाने के लिए कृतसंकल्पित है। इसी का परिणाम है कि परीक्षा में पूरी तरह से पारदर्शिता बरती गई। उन्होंने मेरिट में आने वाले बच्चों व उनके अभिभावकों को बधाई दी।

मेरिट में आने वाली जिज्ञासा अपने पारिवारिक सदस्यों के साथ।

जिलावार परीक्षा परिणाम (फीसद में)

जिला लड़के लड़कियां कुल
चरखी दादरी 66.53 73.58 69.76
महेंद्रगढ़ 62.06 69.07 65.3
रेवाड़ी 61.1 67.62 64.25
झज्जर 56.26 67.58 61.42
सोनीपत 52.61 61.52 56.45
हिसार 52.7 59.86 56.03
रोहतक 51.26 59.03 54.85
भिवानी 51.19 56.86 53.88
पानीपत 48.46 58.54 53.01
सिरसा 48.61 56.71 52.46
जींद 50.46 53.8 52.08
कैथल 46.27 52.87 49.37
फतेहाबाद 46.8 51.36 48.99
कुरुक्षेत्र 43.52 55.03 48.69
गुरुग्राम 44.22 50.34 47.04
पंचकूला 36.74 54.32 45.49
करनाल 41.46 48.81 44.99
अंबाला 38.35 50.93 44.18
फरीदाबाद 38.76 47.32 42.63
यमुनानगर 36.96 48.05 41.99
नूंह 38.41 43.06 39.8
पलवल 39.01 39.81 39.35
ओवरऑल 47.61 55.34 51.15

यह भी पढ़ेंः सीएम मनोहरलाल को भाया गुल्‍ली डंडे का खेल, बच्‍चों संग जमकर की मस्‍ती

प्रो. रामबिलास शर्मा ने कहा कि बोर्ड द्वारा पहली बार प्रमाण-पत्र व रिजल्ट डिजीटल लॉकर में सुरक्षित रखने का निर्णय प्रशंसनीय है, जिससे परीक्षार्थी आवश्यकता पड़ने पर रिजल्ट व प्रमाण-पत्र बोर्ड की वेबसइट से इसे डाउनलोड कर सकेंगे। इसके साथ-साथ वर्ष 2004 से लेकर अब तक के सभी परीक्षार्थियों के प्रमाण-पत्र व रिजल्ट डिजीटल लॉकर पर लोड करेगा। उन्होंने परीक्षा परिणामों को हाई-टैक करने की बोर्ड प्रशासन की प्रशंसा की।

उन्होंने कहा कि डिजीटल लॉकर के जरिए कोई भी भर्ती एजेंसी या किसी भी तरह की प्रमाण-पत्रों का रिजल्ट की जांच आसानी से कर सकेगी। इस निर्णय के बाद सभी सैनिक बोर्ड व एचएसएससी व एचपीएससी को कोड जारी कर दिया जाएगा, जिससे अभ्यर्थी की सभी मार्कशीट को देखा जा सकेगा। इसी तरह किसी कंपनी या सरकारी नौकरी के लिए वहीं पर बैठे-बैठे अधिकारी आवेदक का वेरिफिकेशन कर सकेंगे। इससे न तो किसी प्रकार का फर्जीवाड़ा होगा और न ही समय की बर्बादी होगी।

परीक्षा परिणाम पर एक नजर 

परीक्षा में बैठे कुल विद्यार्थी 3,64,800
उत्तीर्ण 1,86,586
कंपार्टमेंट 15526
अनुतीर्ण 1,62,688
परीक्षा में बैठे लड़के 1,97,873
पास लड़के 94202
परीक्षा में बैठी लड़कियां 1,66,927
पास लड़कियां 92384
राजकीय विद्यालयों की पास प्रतिशतता 44.38
निजी स्कूलों की पास प्रतिशतता 59.87
ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों की पास प्रतिशतता 51.72
शहरी क्षेत्र के विद्यार्थियों की पास प्रतिशतता 49.65
स्वयंपाठी (प्राइवेट) परीक्षार्थियों का परिणाम 66.72 प्रतिशत

 

Posted By: Kamlesh Bhatt