अलीगढ़ (जागरण संवाददाता)। यूपी बोर्ड परीक्षा में सोमवार को हाईस्कूल अंग्रेजी की परीक्षा में केंद्रों पर चार्ट लगाकर नकल कराई गई। अफसरों की ताबड़तोड़ कार्रवाई से बेखौफ माफिया के हौसले बुलंद हैं। नकल तो दूर मुन्नाभाई के परीक्षा में बैठने पर भी रोक नहीं लग पा रही है। केंद्र व्यवस्थापक, कक्ष निरीक्षक बाहरी तत्वों से मिलकर उत्तर पुस्तिकाएं तैयार कराते पकड़े गए।

कई जगहों पर सामूहिक नकल के मामले भी सामने आए। अधिकारियों ने नकल के खिलाफ कार्रवाई भी की मगर परीक्षा पर नकलविहीन का ठप्पा लगाने में नाकाम रहे। प्रशासनिक व शिक्षा अधिकारियों ने सोमवार को 17 एफआइआर कराईं और चार मुन्नाभाई पकड़े गए। एक छात्र को केंद्र से निकाल दिया गया वहीं दो केंद्रों को डिबार किया गया। संदिग्ध महिला कक्ष निरीक्षक को हटाने व केंद्र व्यवस्थापक को नोटिस जारी करने की कार्रवाई भी की गई।

16081 ने छोड़ी परीक्षा: जिले में 10वीं की अंग्रेजी परीक्षा के लिए 72225 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। इसमें 56144 ने परीक्षा दी। 16081 गैरहाजिर रहे। इसमें सबसे ज्यादा अतरौली क्षेत्र से 8674 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ी। अलीगढ़ से 3298, खैर से 3097 व इगलास से 1012 परीक्षार्थियों ने अंग्रेजी की परीक्षा से दूरी बनाई। इंटरमीडिएट की परीक्षाएं आसान विषयों की होने की वजह से नकल व कार्रवाई जैसी कोई गतिविधियां नहीं हुईं। 12वीं की कृषि भौतिक व जलवायु परीक्षा में पंजीकृत 380 परीक्षार्थियों में 331 हाजिर रहे। समाजशास्त्र परीक्षा में पंजीकृत 6027 परीक्षार्थियों में 4980 हाजिर रहे।

कहां किस पर कार्रवाई: सेंट जोसफ इंटर कॉलेज अतरौली में संदिग्ध महिला कक्ष निरीक्षक को हटाते हुए केंद्र व्यवस्थापक को नोटिस जारी किया। भगवान सिंह इंटर कॉलेज सांकरा में एक व चंद्रपाल सिंह इंटर कालेज औंधाखेड़ा, कलावती देवी इंटर कालेज दादों और लीलाधर सिंह इंटर कालेज नगला भूड़ में तीन समेत कुल चार मुन्नाभाई धरे गए। सभी के खिलाफ एफआइआर कराई गई। शिव नाहर सिंह कॉलेज पचावरी के केंद्र व्यवस्थापक रनवीर सिंह नकल कराने में लिप्त पाए गए। कक्ष निरीक्षकों का डाटा नहीं दिखा पाए साथ ही सीसीटीवी कैमरे से जांच करने में पासवर्ड भी गलत बताया। इनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई।

यह भी पढ़ें: बिहार बोर्ड का बड़ा फैसला, 2157 रिजल्ट रद, दो स्कूलों की मान्यता निलंबित

एफआइआर दर्ज कराई गई: महावीर सिंह इंटर कॉलेज जसुआ में केंद्र व्यवस्थापक सुखवीर सिंह को नकल कराने का दोषी पाते हुए एफआइआर कराई व दो अध्यापकों को कार्यमुक्त किया गया। गंगा देवी एसडी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गोंडा में परीक्षा सहायक सुरेश चंद्र को नकल का दोषी पाते हुए एफआइआर कराई गई। इंदिरा गांधी कॉलेज नगला अहिवासी में एक केंद्र व्यवस्थापक अयोध्या प्रसाद शर्मा व दो कक्ष निरीक्षक अरविंद कुमार जैन, गया प्रसाद के अलावा बाहरी तत्व रवींद्र समेत चार के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई। कुमरसेन इंटर कॉलेज जटवार में नोट शीट बरामद होने व नकल कराने के दोषी केंद्र व्यवस्थापक व तीन अन्य रामप्रकाश, यादवेंद्र व कौशल कुमार के खिलाफ एफआइआर कराकर केंद्र व्यवस्थापक को बदल दिया।

यह भी पढ़ें: पटना हाइकोर्ट ने कहा - NEET में 25 वर्ष से अधिक के छात्रों को भी शामिल करें

Posted By: amal chowdhury