यूपी सरकार ने छात्रों और अभिभावकों को बड़ी राहत दी है। सरकार ने निर्देश दिए हैं कि इंजीनियरिंग और पॉलीटेक्निक संस्थानों में फीस नहीं बढ़ाई जाएगी। सरकार ने फैसला किया कि शैक्षणिक 2021-22 सत्र के लिए निजी और सहायता प्राप्त इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक संस्थान के लिए फीस पिछले साल यानी कि 2020 में तय की गई ही वसूली जाएगी। सरकार के इस फैसले से करीब 6.5 लाख छात्र लाभान्वित होंगे। वहीं इस बाबत सचिव तकनीकी शिक्षा आलोक कुमार ने कहा कि, “2020-21 में फीस वही रहेगी,जो 2020-21 सत्र में महामारी के कारण थी।

उन्होंने कहा कि तकनीकी शिक्षा विभाग के तहत राज्य भर के 750 इंजीनियरिंग कॉलेजों और तकनीकी शिक्षा परिषद से जुड़े 1,247 पॉलिटेक्निक संस्थानों में नामांकित छात्र इस निर्णय से लाभान्वित होंगे। वहीं यूपी सरकार से छात्र और उनके माता-पिता सरकार के फैसले से खुश हैं, क्योंकि राज्य भर में लंबे समय तक कोरोना कर्फ्यू के कारण कई लोगों की नौकरी छूट गई है या वेतन में कटौती हुई है। इसके चलते अभिभावक को फीस चुकाने में समस्या हो रही थी। वहीं अब योगी सरकार के इस फैसले के बाद से ही पैरेंट्स को बड़ी राहत मिली है। 

वहीं यूपी में पहली से आठवीं तक के स्कूल एक जुलाई से खुल जाएंगे। कोविड -19 मामलों की संख्या में गिरावट के बीच, राज्य सरकार ने गुरुवार को 1 जुलाई से राज्य भर के 1.5 लाख सरकारी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों को फिर से खोलने का आदेश दिया है। हालांकि स्कूल केवल प्रशासनिक कार्य के लिए शिक्षकों और कर्मचारियों के लिए खोले जाएंगे, लेकिन अगले आदेश तक छात्रों को आने की अनुमति नहीं होगी। आदेश के अनुसार, इस दौरान स्कूलों में शत-प्रतिशत बच्चों का विद्यालयों में नामांकन, मिड डे मील, निशुल्क पाठ्य पुस्तकों का वितरण, ऑपरेशन कायाकल्प की गतिविधियों, मिशन प्रेरणा के अंतर्गत ई पाठशाला का संचालन और जिला प्रशासन व शिक्षा विभाग द्वारा अन्य महत्वपूर्ण कार्यों एवं दायित्वों का संचालन किया जाएगा।

 

Edited By: Nandini Dubey