सिलीगुड़ी [जागरण संवाददाता]। टेक्नोलॉजी ऑफ इंटरटेनमेंट डिजाइन (टीईडी) के तत्वावधान व दैनिक जागरण के सहयोग से जलपाईगुड़ी इंजीनियरिंग कॉलेज में आज सोमवार को आयोजित शिक्षा, चिकित्सा, संगीत, नृत्य की दुनिया में महारथ हासिल करने वाले वक्ताओं द्वारा विद्यार्थियों व युवाओं के बीच वक्तव्य दिया जाएगा। कांफ्रेंस में शामिल होने के लिए सोमवार को ही देश के विभिन्न क्षेत्रों से वक्ता सिलीगुड़ी पहुंच चुके हैं।कार्यक्रम के मुख्य आयोजक आयन देव ने बताया कि टीईडी अपने यू-ट्यूब चैनल के माध्यम से देश के जाने माने वक्ताओं के विचारों व उनके संदेशों को अपलोड करता है, ताकि युवा व विद्यार्थी इससे लाभान्वित हो सकें।
कांफ्रेंस के वक्ताओं का परिचय
परवेज अरशद हुसैन
ग्लेनबर्न टी-स्टेट के पूर्व प्रबंधक व सामाजिक कार्यकर्ता परवेज अरशद हुसैन ने असम से चाय उद्योग से अपने करियर को शुरू किया है, जो फिलहाल 30 वर्षों से दार्जिलिंग व डुवार्स क्षेत्र में चाय की गुणवत्ता को किस तरह से बनाए रखा जा सके, इसके लिए लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि आज दुनिया में दार्जिलिंग चाय विश्व प्रसिद्ध है। सीटीसी चाय की कॉपी हो सकती है, लेकिन दार्जिलिंग चाय की कॉपी नहीं की जा सकती है।
आदिल रशीद

 गिटारवादक आदिल रशीद गिटार सिखाते भी हैं। उनका कहना कि वर्तमान दौर में सिंगल म्यूजिशियिन होना काफी कठिन है। उन्होंने कहा कि अगर कोई युवा किसी काम को करने जा रहा है तो सही निर्णय के साथ आगे बढऩा होगा। किसी भी म्यूजिक को सिखने व समझने के लिए भाषा का समझ होना चाहिए।
अलकनंदा रॉय
कोलकाता की प्रसिद्ध डांसर व थिएटर आर्टिस्ट अलकनंदा रॉय अपने पेशे के साथ सामाजिक कार्यों में भी लगी रहती हैं। उनका कहना कि अपने डांस के माध्यम से कैदियों को भी सही रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करती हैं। जीवन में सभी का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर कोई किसी अपराध मे दोषी है तो उसे सुधरने के लिए एक अवसर अवश्य देना चाहिए।
नीला भट्टाचार्य
सिलीगुड़ी शहर ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर बंगाल में डॉ नीला भट्टाचार्य वह नाम है, जो पेशे से डॉक्टर हैं, तथा प्लास्टिक सर्जरी की विशेषज्ञ हैं। उन बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने का काम करती हैं, जिनकी मुस्कान होंठ व तालू कटने से गायब हो गई है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2007 में तमीननाडु से सिलीगुड़ी आने के बाद मुफ्त में ऑपरेशन कर सैकड़ों बच्चों के चेहरे पर मुस्कान ला दी हैं। उनके कार्यों को देखते हुए उन्हें दो-दो बार भारत सरकार द्वारा सम्मानित किया जा चुका है।
हाजिक काजी

मुंबई निवासी 12 वर्षीय बालक ऐसा काम कर रहा है, जो बड़े से बड़े लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत है। काजी ने मुंबई में समुद्र की सफाई व इसके संरक्षण के लिए अभियान शुरू किया है। लोगों को संदेश दे रहा है कि समुद्र में प्लास्टिक फेंकने से समुद्री जीवों पर किस तरह के बुरे प्रभाव पड़ रहे हैं।
राहुल बसाक

अमर कैनवस के सीईओ राहुल बसाक का कहना है कि एक ऑर्टिस्ट को आगे बढऩे के लिए उसे अपना सौ प्रतिशत देना जरूरी होता है। अगर कोई पेंटिंग तैयार करते हैं, तो ऐसा ऑनलाइन प्लेटफार्म होना चाहिए, जहां से उसे लोग प्राप्त कर सकें। इस तरह की व्यवस्था उनके द्वारा मुहैया भी कराई जा रही है।
सागर डोदेजा

 आइएएस व इंजीनियरिंग  की नौकरी छोड़कर विद्यार्थियों को सिविल सर्विसेस की तैयारी कराने वाले सागर डोदेजा कहते हैं कि विद्यार्थियों को किसी और की नकल करने की जगह अपनी स्वयं की प्रतिभा पहचान कर आगे बढऩा चाहिए। उन्होंने कहा कि अब तक 70 हजार विद्यार्थियों को शिक्षा को पढ़ा चुके हैं।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप