जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : उत्तर बंगाल के जाने-माने प्रसूति विज्ञान एवं स्त्री रोग चिकित्सा विशेषज्ञ डा. जी. बी. दास के लाइसेंस निलंबित हो जाने के मामले में अब उन्हें सुप्रीम कोर्ट से स्टे मिल गया है। इसके तहत अब वह फिर से, पाकुड़तला मोड़ के निकट स्थित अपने नर्सिग होम न्यू रामकृष्ण सेवा सदन में डाक्टरी की अपनी प्रैक्टिस शुक्रवार 19 अगस्त से शुरू करने जा रहे हैं। उन्होंने खुद यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि एक मुकदमे के तहत कलकत्ता हाई कोर्ट के जलपाईगुड़ी स्थित सर्किट बेंच द्वारा बीते जुलाई महीने में उनके डाक्टरी के लाइसेंस को निलंबित कर दिए जाने को पहले उन्होंने कलकत्ता हाई कोर्ट के ही डिवीजन बेंच के समक्ष चुनौती दी थी। उसके बाद उन्होंने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। वहां से गत 12 अगस्त को उन्हें स्टे मिल गया है। इसके तहत वह अब फिर से शुक्रवार 19 अगस्त से अपने नर्सिग होम में डॉक्टरी की अपनी प्रैक्टिस शुरू करने जा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि, उनके नर्सिग होम में अवैध निर्माण का आरोप लगाते हुए उनके एक पड़ोसी ने अदालत में मुकदमा दायर कर रखा था। उसी के मद्देनजर कलकत्ता हाई कोर्ट के जलपाईगुड़ी स्थित सर्किट बेंच ने नर्सिग होम के अवैध निर्माण वाले अंश को तोड़ देने का आदेश दिया था व उनका लाइसेंस भी 19 अगस्त तक के लिए निलंबित कर दिया था। उक्त अदालती आदेश के आलोक में सिलीगुड़ी नगर निगम द्वारा नर्सिग होम के अवैध निर्माण वाले अंश को तोड़ने की कार्रवाई भी की गई थी। अभी भी यह पूरा मामला अदालत में विचाराधीन है।

Edited By: Jagran