मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। साइबर फ्राड ने मिठनपुरा के एक आई हास्पिटल के चिकित्सक और नीट की तैयारी कर रहे छात्र के खाते से 2.60 लाख रुपये उड़ा लिए। मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है। पुलिस को दिए आवेदन में डा. पल्लवी सिन्हा ने बताया कि साइबर फ्राड ने खुद को सीमा सुरक्षा बल अधिकारी बताकर काल किया। उसने अपना नाम सतीश कुमार बताया। कहा कि बीएसएफ में बहाल हुए 100 जवानों की आंख की जांच करानी है। फीस एडवांस देने के लिए आनलाइन डिटेल्स मांगा।

चिकित्सक द्वारा गूगल आइडी बताते ही उनके खाते से 25 हजार रुपये उड़ा लिए गए। नीट की तैयारी कर रहे आमगोला के छात्र मिहिर कुमार मेहता से साइबर फ्राड ने बैंक अधिकारी बनकर काल किया और जानकारी लेने के बाद एक ल‍िंक भेजा। इसके बाद उनके खाते से चार बार में 2.35 लाख रुपये उड़ा लिए गए। डिटेल्स निकालने पर पता चला कि धनबाद स्थित एक बैंक के ग्राहक सुमन मल्लिक के खाते में आनलाइन ट्रांजेक्शन किया गया है। आशंका है कि झारखंड के धनबाद में बैठे साइबर फ्राड द्वारा वारदात को अंजाम दिया गया है। मिठनपुरा थानाध्यक्ष श्रीकांत प्रसाद सिन्हा ने बताया कि साइबर सेल से संपर्क कर मामले में कार्रवाई की जा रही है। बता दें कि पहले भी सेना में बहाल अभ्यर्थियों की आंख जांच कराने के नाम पर रामदयालु स्थित एक डाक्टर से साइबर फ्राड आनलाइन ठगी कर चुके हैं। पुलिस की कार्रवाई मामला दर्ज करने तक सिमटी है।

बीडीओ के नाम पर फर्जी अकाउंट बना लोगों से मांग रहा है पैसे

समस्तीपुर। स्थानीय समस्तीपुर प्रखंड के बीडीओ राहुल कुमार के नाम पर एक फर्जी फेसबुक और वाट्सएप अकांउट बना ली गई है। प्रोफाइल पिक्चर में उनकी तस्वीर भी लगा रखी है। इस फर्जी अकांउट के जरिए साइबर अपराधी लोगों से रुपये मांग रहा है। अबतक 20 हजार रुपये की ठगी का मामला प्रकाश में आया है। इस बाबत प्रखंड विकास पदाधिकारी ने मुफस्सिल थाना में एक आवेदन देकर आईटी एक्ट के तहत शिकायत दर्ज कराई है। बताया कि शनिवार को साइबर अपराधियों ने उनके नाम से फेसबुक और वाट्सएप का फर्जी अकाउंट बना लिया और इंटरनेट मीडिया पर उनके संपर्क के लोगों से रुपये मांग रहा है। जिस मोबाइल नंबर से फर्जी अकाउंट चलाया जा रहा है, वह सीतामढ़ी जिला के सुरसंड के अमाना गांव निवासी मनोज कुमार आजाद के नाम से रजिस्टर्ड बताया गया है।

उक्त व्यक्ति के मोबाइल नंबर पर वाट्सएप के जरिए उनकी तस्वीर लगाकर साइबर अपराधी संवाद कर रहे हैं। शनिवार को हॉस्पिटल में भर्ती होने की सूचना और फर्जी तस्वीरें भेजकर संपर्क के लोगों से रुपये भेजने का अनुरोध किया। इस दौरान मनोज कुमार आजाद ने शनिवार को पे-फोन के माध्यम से फर्जी बैंक अकाउंट में बीस हजार रुपये ट्रांसफर कर दिया। इस संबंध में बीडीओ के द्वारा साइबर क्राइम के साइट पर शिकायत दर्ज कराई गई है। थानाध्यक्ष प्रवीण कुमार मिश्रा ने बताया कि आवेदन के आलोक में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। मामले की छानबीन जारी है।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh