बाढ़ के पानी से तबाह हो रही फसलें

संवाद सूत्र, कंपिल : बाढ़ का पानी खेतों में भरा रहने से फसलें तबाह हो रही हैं। गांवों में भी बाढ़ का पानी पहुंचने से लोग सुरक्षित स्थान पर ठिकाना तलाश रहे हैं।

क्षेत्र में बूढ़ी गंगा का पानी सींगनपुर, पुन्थर, गड़ी व इकलहरा की सीमा में घुस गया है। किसानों की धान व गन्ना की फसल पूरी तरह से तबाह हो चुकी है। गांव छोटी सींगनपुर और पुन्थर गांव से चंद कदमों की दूरी पर स्थित गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से पानी आसपास के खेतों में भर गया। ग्रामीण अपना सामान सुरक्षित करने में जुटे हुए हैं। पथरामई में पानी के बढ़ते स्तर से परेशान लोगों ने प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है। ग्रामीणों का कहना है कि नदी में यदि और पानी बढ़ा तो स्थिति भयावह हो सकती है। बाढ़ का पानी नदी पार पूरी कटरी में फैलने के कारण पशुओं के चरने वाली घास गलकर खराब हो चुकी है। इसी घास के खाने से पशुओं में विभिन्न रोग फैल रहे हैं। जन स्वास्थ्य की देखभाल भी नहीं हो पा रही है, क्योंकि सीएचसी व पीएचसी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के सहारे चल रहा है और वहां दवाएं भी नहीं हैं।

Edited By: Jagran