अलीगढ़, जागरण संवाददाता । Amrit Festival of Freedom : आजादी का 75 वां अमृत महोत्सव के तहत कासिमपुर पावर हाउस में संविदाकारों एवं सामाजिक संगठनों नेे तिरंगा यात्रा निकाली। इस दौरान जगह -जगह तिरंगा भी बांटेे गए। तिरंगा यात्रा में 200 से अधिक बाइक सवारों ने प्रतिभाग लिया।

प्रतिभागियों पर हुई पुष्‍पवर्षा : Kasimpur Power House स्थित ten shop market से तिरंगा यात्रा को संविदाकार दीपचंद्र एवं नरेंद्र सिंह नेे हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। तिरंगा यात्रा सामाजिक कार्यकर्ता कुंवर पाल सिंह के नेतृत्व में क्षेत्र केे विभिन्न गांव रामपुुर, चाऊपुर, वाजिदपुुर आदि गांवों में घूमी। यात्रा में देश भक्ति गानों की धुन बज रही थी। जगह -जगह यात्रा में प्रतिभागियों पर पुष्प वर्षा से स्वागत किया गया।

ये लोग हुए शामिल : इस दौरान रामगोपाल यादव, अमरीश कुमार प्रजापति, चेतन प्रकाश वाष्र्णेय, योगेश शर्मा मुकुल गर्ग, वेद प्रकाश, देवेश कुमार राघव, लोकेश कुमार, प्रवीण पांडे, पुष्पेंद्र कुमार, आनंद यादव, मेघ सिंह उर्फ पप्पू राहुल शर्मा, राजन कुमार, तरुण कश्यप, विशाल कुमार, दीपक कुमार, शौर्य कुमार, जीतू कुमार, श्यामू कुमार, तरुण सक्सेना आदि मौजूद रहे।

रक्षाबंधन के बाद बसें खाली, ट्रेनें फुल

अलीगढ़ । रक्षाबंधन पर्व में बहनें अपने भाइयों को राखी बांधने के लिए जिले में आई भीं और जिले से बाहर गईं भी। मगर रक्षाबंधन के बाद अब शहर के गांधी पार्क, मसूदाबाद व सारसौल तीनों बस अड्डों पर यात्रियों की भीड़ न के बराबर रही। बस अड्डे लगभग खाली ही रहे। वहां जो बसें खड़ी थीं वो भी खाली ही खड़ी थीं। उनमें चढ़ने वाले यात्रियों का टोटा रहा। वहीं ट्रेनों में यात्रियों की भीड़ अभी भी बरकरार है।

लोकल ट्रेनों के अलावा सुपरफास्ट ट्रेनों में भी अलीगढ़ वापसी करने वाले यात्रियों की भीड़ स्टेशन पर उतर रही है।एआरएम बुद्धविहार डिपो वाईपी सिंह ने बताया कि रक्षाबंधन पर्व के चलते बसों में भीड़ ज्यादा थी। अब अधिकतर यात्री वापस लौट चुके हैं। वहीं अब 14 अगस्त को रविवार और 15 को स्वतंत्रता दिवस का अवकाश है। इसके चलते भी लोग यात्रा कम कर रहे हैं।

कुछ अतिरिक्त बसों को भी बढ़ाया गया है। इससे रोडवेज की यात्रा सुगम हुई है। वहीं स्टेशन अधीक्षक डीके गौतम ने बताया कि हाथरस-अलीगढ़-दिल्ली (एचएडी), टूंडला-अलीगढ़-दिल्ली (टीएडी) व ईएमयू पैसेंजर ट्रेनें अभी खचाखच भरी चल रही हैं। अलीगढ़-बरेली पैसेंजर व एक्सप्रेस ट्रेनों में भी वापसी करने वाले यात्रियों की भीड़ ज्यादा है।

Edited By: Anil Kushwaha